Wednesday, October 17, 2018
Home » 2016 » November » 05

Daily Archives: 5th November 2016

निर्वाचक नामावलियों में पुनरीक्षण विशेष कैम्प 12 व 13 को

हाथरस, जन सामना ब्यूरो। भारत निर्वाचन आयोग के अर्हता तिथि 01.01.2017 के आधार पर विधान सभा निर्वाचन क्षेत्र की निर्वाचक नामावलियों का विशेष संक्षिप्त पुनरीक्षण आगामी 15 नवम्बर तक चलेगा और 12 नवम्बर शनिवार एवं 13 नवम्बर रविवार को विशेष अभियान संचालित किया जायेगा।
जिला मजिस्ट्रेट एवं जिला निर्वाचन अधिकारी अविनाश कृष्ण सिंह ने यह जानकारी देते हुए बताया है कि विधानसभा निर्वाचन क्षेत्रों की निर्वाचक नामावलियों के विशेष संक्षिप्त पुनरीक्षण कार्यक्रम के अन्तर्गत दावे एवं आपत्तियाॅ दाखिल करने की अवधि, जो 31.अक्टूबर तक थी को बढ़ाकर 15 नवम्बर तक चलाया जायेगा। § Read_More....

Read More »

भाजपा की परिवर्तन यात्रा की तैयारियां शुरू

हाथरस, नीरज चक्रपाणि। आगामी परिवर्तन यात्रा कार्यक्रम को लेकर भारतीय जनता पार्टी नेतृत्व बहुत गम्भीर नज़र आ रहा है। जिले में 30 नवम्बर को प्रवेश करने वाली दस यात्रा की तैयारियां अभी से शुरू हो गयी हैं। इसी सिलसिले में जिले की एक बैठक बुलाई गयी जिसमें परिवर्तन यात्रा की व्यवस्थाओं के छोटे से छोटे पहलुओं पर गम्भीरता पूर्वक विचार किया गया। बैठक में यात्रा की तैयारियों का जायजा लेने एवं बारीकियों के बारे में जानकारी देने के लिए प्रमुख रूप से भाजपा प्रदेश कार्यसमिति के सदस्य मानवेन्द्र सिंह उपस्थित रहे।
उन्होंने बताया कि पूरे प्रदेश में निकलने वाली चार परिवर्तन यात्राओं का मूल उद्देश्य जनभावनाओं को शब्द देना है। गूंगी-बहरी प्रदेश की सपा सरकार को जनता की कोई फिक्र नहीं है। भारतीय जनता पार्टी ने हमेशा ही जनभावनाओं और आकांक्षाओं का ख़याल रखा है। § Read_More....

Read More »

केन्द्र सरकार के दमनचक्रीय कृत्य का पत्रकारों ने किया विरोध

2016-11-05-1-sspjs-chandanकानपुर नगर, जन सामना संवाददाता। केन्द्र सरकार के द्वारा एक प्रतिष्ठित इलेक्ट्राॅनिक न्यूज चैनल को प्रतिबंधित किए जाने के विरोध में कानपुर के पत्रकारों ने केन्द्र सरकार के कृत्य का पुरजोर विरोध किया। शनिवार को कानपुर प्रेस क्लब में शहर के पत्रकारों की आपात बैठक बुलाई गई और केन्द्र की मोदी सरकार के इस कृत्य की घोर निंदा की गयी। केन्द्र सरकार के मीडिया के लिए दमनकारी कृत्य के विरोध में सभी पत्रकारों द्वारा विरोध स्वरूप सांकेतिक धरना देने का निर्णय लिया गया।
आपको बताते चलें केन्द्र सरकार द्वारा एनडीटीवी न्यूज चैनल को आगामी 9 नवम्बर को रात्रि 12 बजे से 10 नवम्बर रात्रि 12 बजे तक यानीकि चैबीस घंटे तक होने वाले प्रसारण पर एक दिवसीय प्रतिबंध मोदी सरकार द्वारा लगा दिया गया है। इसके विरोध में आज कानपुर प्रेस क्लब द्वारा पत्रकारों की आपात बैठक का आयोजन किया गया जिसकी अध्यक्षता कानपुर प्रेस क्लब अध्यक्ष सरस बाजपेई ने की। इस मौके पर उन्होंने बताया कि केन्द्र की तानाशाही नीति के विरोध में आगामी 9 तारीख को शहर के सभी पत्रकारों द्वारा मुख पर काली पट्टी बांधकर एक घंटे का सांकेतिक धरना दिया जायेगा। वहीं अन्य वक्ताओं ने कहा कि मोदी सरकार मीडिया को दबाना चाहती है और तानाशाही का परिचय दे रही है। इसे कदापि बर्दाश्त नहीं किया जायेगा।
§ Read_More....

Read More »

पूर्व सैनिक पुनर्मिलन समारोह का आयोजन 13 को

हाथरस, जन सामना ब्यूरो। जनपद स्तरीय पूर्व सैनिक पुनर्मिलन समारोह का आयोजन 13 नवम्बर रविवार को प्रातः 9 बजे से बागला इंटर कालेज में किया जायेगा।
जिला सैनिक कल्याण एवं पुनर्वास अधिकारी अवकाश प्राप्त विंग कमाण्डर प्रमोद कुमार ने यह जानकारी देते हुए बताया है कि जनपद हाथरस के पूर्व सैनिकों, सैनिक विधवाओं, शहीद सैनिकों के आश्रितों को मेडीकल सुविधा ईसीएचएस के माध्यम से स्वतः रोजगार और कल्याणकारी योजनाओं के संबंध में जानकारी, पूर्व सैनिक कल्याण निगम द्वारा सैनिकों को रोजगार व सीएसडी कैन्टीन की सुविधा व योग्य पात्रों को दातव्य निधि से अनुदान वितरण व जनपद के शहीद सैनिकों के आश्रितों व कारगिल युद्ध में शहीद सैनिकों को सम्मानित करने हेतु जनपद स्तरीय पूर्व सैनिक पुनर्मिलन समारोह आगामी दिनांक 13 नवम्बर 2016 रविवार को प्रातः 9 बजे को बागला इंटर कालेज के प्रांगण में किया जायेगा। § Read_More....

Read More »

‘‘निष्ठुर प्रथाएं’’

kanchan-pathakलाॅ, विधि या कानून सभ्यता के विकास के साथ-साथ रूढ़ियों, प्रथाओं और परम्पराओं को परिवर्तित कर स्वयं को विकसित करता रहा है इस क्रम में समय के साथ बहुत से बेकार नियम और कानून नष्ट होकर नए उपयोगी व व्यवहारिक कानून बनते चले आए हैं और आगे भी बनते रहेंगे। मानवीय क्रियाकलापों को अनुशाषित रखने के लिए यह युक्ति, रूपान्तरण की यह प्रक्रिया आवश्यक भी है। सदियों से चले आ रहे गलत और अन्यायपूर्ण रिवाजों को दैवी नियम या धर्म शास्त्र का आदेश कह कर अपने स्वार्थ के लिए चलाते जाना न केवल राष्ट्र के कानून व्यवस्था की त्रुटि है बल्कि उस समाज के बुद्धि जीवियों और राजनीतिक अग्रगण्यों की भी निष्फलता और ह्रदयहीनता है। सड़े गले रिवाज किसी कष्टकारी बीमारी की तरह है जिसका इलाज कराने के बजाय ढ़ोते रहना मूर्खता भी है। हाल का तीन तलाक मुद्दा ऐसी हीं एक बीमारी, एक बेकार और निष्ठुर प्रथा है जिसे जितनी जल्दी हो सके सामाजिक तथा नैतिक विधिशास्त्र के अन्तर्गत खत्म करके विधि को स्वयं को बेदाग और न्यायपूर्ण बनाना चाहिए। धर्मग्रन्थ का हवाला देकर इसे चलाते जाना मक्कारी है क्योंकि कोई भी धर्म मानव व समाज की भलाई के लिए होता है आखिर धर्म की चाबुक से स्त्रियों की खाल उधेड़ कर कोई समाज तरक्की कर सकता है क्या ? धर्मग्रन्थ की आयतों का अपने स्वार्थ और सहूलियत के हिसाब से अर्थ निकाल लेना कहाँ की बुद्धि मत्ता है ? § Read_More....

Read More »