• जल दिवस के रूप में मनाया जाएगा डॉ.अम्बेडकर का जन्मदिन: उमा भारती

    मुख्य समाचार

    समावेशी विकास के लिए जल संसाधन प्रबंधन पर डॉ. अम्बेडकर के विचारों पर राष्ट्रीय संगोष्ठी आयोजित

    The Union Minister for Water Resources, River Development and Ganga Rejuvenation, Sushri Uma Bharti lighting the lamp at a seminar on “Marching Ahead on Dr. Ambedkar’s Path of Water Resources Management for Inclusive Growth”, organised by the Central Water Commission, on the occasion of death anniversary of Dr. Bhimrao Ambedkar, in New Delhi on December 06, 2016.

    नई दिल्ली, जन सामना ब्यूरो। केंद्रीय जल संसाधन, नदी विकास एवं गंगा संरक्षण मंत्री सुश्री उमा भारती ने जल संसाधन प्रबंधन के क्षेत्र में डॉ. भीमराव अंबेडकर के योगदान को याद करते हुए घोषणा की है कि उनके जन्म दिवस 14 अप्रैल को ‘‘जल दिवस’’ के रूप में मनाया जायेगा। सुश्री भारती केंद्रीय जल आयोग की ओर से समावेशी विकास के लिए जल संसाधन प्रबंधन पर डॉ.अम्बेडर के विचारों पर आज नई दिल्ली में आयोजित राष्ट्रीय संगोष्ठी को मुख्य अतिथि के रूप में संबोधित कर रहीं थीं।
    मंत्री महोदया ने कहा, ‘‘आने वाले दिनों में पानी भारत सरकार का महत्वपूर्ण एजेंडा बनने वाला है।’’ सुश्री उमा भारती ने आह्वान किया कि अब समय आ गया है जब हम विचार करें कि क्या हर कार्य के लिए स्वच्छ जल का इस्तेमाल किया जाना जरूरी है। उन्होंने कहा कि यह भी सुनिश्चित किया जाना चाहिए कि संशोधित और गैर संशोधित जल का किस प्रकार से बेहतर इस्तेमाल हो।
    विभिन्न प्रकार की योजनाओं में पानी की भूमिका को रेखांकित करते हुए मंत्री महोदया ने कहा कि देश में पानी की व्यवस्था में सुधार और उसका दुरूपयोग करने वालों को दंडित किये जाने की जरूरत है। केंद्रीय जल आयोग और केंद्रीय भूजल बोर्ड के पुनर्गठन के बारे में डॉ. मिहीर शाह समिति की रिपोर्ट की चर्चा करते हुए सुश्री भारती ने कहा ‘‘हमें रिफोर्म तो लाना है, लेकिन वह सर्वसम्मत होना चाहिए।’’ § Read_More....

  • जयललिता को पीएम ने दी श्रद्धांजलि

    मुख्य समाचार

    2016-12-06-1-ssp-jay-lalita-and-pmचेन्नई, ब्यूरो। देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अन्नाद्रमुक सुप्रीमो जयललिता को श्रद्धांजलि देने के लिए उनके पार्थिव शरीर वाले ताबूत के समक्ष पहुंचे तो व्यथित मौजूदा मुख्यमंत्री ओ पनीरसेल्वम कई बार भावुक होकर उनके गले से लिपट गए। वहीं जब कड़ी सुरक्षा के बीच प्रधानमंत्री मोदी जब राजाजी हाॅल में पहुंचे तो वहां का माहौल बहुत ही गमगीन दिखाई दिया। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जब जयललिता के पार्थिव शरीर के समक्ष पुष्प चक्र रखकर पनीरसेल्वम की ओर बढ़े तो वह बिलखकर बिखर से गए और मोदी से लिपटकर रोने लगे। इसपर प्रधानमंत्री मोदी ने पनीरसेल्वम की पीठ पर हाथ फेरा और हिम्मत बनाए रखने के लिए कहा। इस मौके पर प्रधानमंत्री ने शशिकला को ढांढस बंधाया था जो कि रो रहीं थीं। शशिकला जयललिता की करीबी रही हैं। § Read_More....

  • मुख्यमंत्री ने सुश्री जे जयललिता के निधन पर गहरा दुःख व्यक्त किया

    मुख्य समाचार

    लखनऊ, जन सामना ब्यूरो। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने तमिलनाडु की मुख्यमंत्री सुश्री जे जयललिता के निधन पर गहरा दुःख व्यक्त किया है। आज जारी एक शोक सन्देश में मुख्यमंत्री ने कहा कि अम्मा के नाम से लोकप्रिय सुश्री जयललिता जी का व्यक्तित्व बहुआयामी था। उन्होंने मुख्यमंत्री के तौर पर तमिलनाडु के गांव, गरीब, महिलाओं एवं किसानों की भलायी के लिए कई महत्वपूर्ण निर्णय लिए।
    मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कहा कि एक सफल राजनीतिज्ञ के रूप में सुश्री जयललिता ने तमिलनाडु के जन जीवन पर जो छाप छोड़ी है उसकी भरपायी कर पाना कठिन है। सुश्री जयललिता के निधन से तमिलनाडु की जनता ने जन-कल्याणकारी नेता खो दिया है। § Read_More....

  • आज राष्ट्रीय ध्वज झुके रहेंगे

    मुख्य समाचार

    नई दिल्ली, जन सामना ब्यूरो। भारत सरकार ने आज गहरे दुःख के साथ घोषणा की है कि चेन्नई में कल तमिलनाडु की मुख्यमंत्री जे जयललिता का निधन हो गया है। केंद्र ने निर्णय लिया है कि दिवंगत गणमान्य आत्मा के सम्मान में दिल्ली और तमिलनाडु सहित सभी राज्यों/केंद्रशासित प्रदेशों की राजधानियों में राष्ट्रीय ध्वज झुके रहेंगे। सरकार ने दिवंगत नेता का अंतिम संस्कार पूरे राजकीय सम्मान से आज शाम 4:30 बजे चेन्नई में करने का निर्णय भी लिया है। § Read_More....

  • उपराष्ट्रपति ने सुश्री जे जयललिता के निधन पर शोक व्यक्त किया

    मुख्य समाचार

    नई दिल्ली, जन सामना ब्यूरो। उपराष्ट्रपति एम हामिद अंसारी ने तमिलनाडु की मुख्यमंत्री सुश्री जे जयललिता के निधन पर शोक व्यक्त किया है। अपने शोक संदेश में उन्होंने कहा कि जानी मानी लोकप्रिय नेता और करिशमाई व्यक्तित्व वाली सुश्री जयललिता तमिलनाडु और राष्ट्रीय राजनीति में काफी प्रभावशाली थीं। उन्होंने कहा कि उनकी मृत्यु देश के लोगों के लिए अपूरणीय क्षति है। ” मुझे तमिलनाडु की मुख्यमंत्री सुश्री जयललिता के निधन के बारे में जानकर गहरा दुःख हुआ है। प्रसिद्ध राजनेता, करिशमाई व्यक्तित्व की धनी सुश्री जयललिता तमिलनाडु के साथ ही राष्ट्रीय स्तर की राजनीति में भी काफी प्रभावशाली थीं। तमिलनाडु की मुख्यमंत्री के रूप में राज्य के आर्थिक विकास और गरीब वर्ग के सामाजिक कल्याण के लिए उनके योगदान को हमेशा याद रखा जाएगा। उनका निधन देश के लोगों के लिए अपूरणीय क्षति है। मैं उनके शोक संतप्त परिवार और अनुयायियों के प्रति गहरी संवदेना व्यक्त करता हूं और देश के साथ मिलकर दिवंगत आत्मा की शाश्वत शांति के लिए प्रार्थना करता हूं।‘’ § Read_More....

  • राष्ट्रपति सुश्री जयरमन जयललिता के अंतिम दर्शन के लिए चेन्नई जाएंगे

    मुख्य समाचार

    नई दिल्ली, जन सामना ब्यूरो। राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी तमिलनाडु की पूर्व मुख्यमंत्री सुश्री जयरमन जयललिता के अंतिम दर्शन करने के लिए आज (6 दिसंबर, 2016) चेन्नई जाएंगे। § Read_More....

  • नहीं रहीं जयललिता, पनीरसेल्वम बने मुख्यमंत्री

    मुख्य समाचार

    2016-12-06-1-1-ssp-jay-lalitaचेन्नई, ब्यूरो। तीन दशकों से राज्य की राजनीति का एक ध्रुव रहीं और गरीबों के लिए कई कल्याणकारी योजनाएं शुरू करने वाली लोकप्रिय नेता व तमिलनाडु की मुख्यमंत्री जे जयललिता का निधन हो गया। उनके चहेते उन्हें ‘अम्मा’ कहते थे। ‘अम्मा’ के निधन की खबर जैसे ही लोगों को मिली वे बिलख पड़े। अपोलो अस्पताल के डाक्टरों के अनुसार 68 वर्षीय जयललिता को रविवार की शाम को गंभीर दिल का दौरा पड़ा था और सोमवार की रात साढ़े ग्यारह बजे उनका निधन हो गया। गौरतलब हो कि बिगत 22 सितंबर को अपोलो अस्पताल में बुखार और निर्जलीकरण की शिकायत के बाद भर्ती कराया था।
    जयललिता के निधन की घोषणा के दो घंटे बाद तेजी से राजनैतिक परिवर्तन के तहत उनके वफादार रहे ओ पनीरसेल्वम को राजभवन में एक सादे समारोह में मुख्यमंत्री पद की शपथ दिलाई गई। § Read_More....

..प्रकाशकः श्याम सिंह पंवार
कार्यालयः 804, वरुण विहार थाना-बर्रा जिला-कानपुर-27 (उ0 प्र0) भारत
सम्पर्क सूत्रः 09455970804
jansaamna@gmail.com ..

Search

Back to Top