• गजलः आपको देख कर…

    विविधा

    संजय कुमार गिरि

    आपको देख कर मुस्कुराते रहे
    गीत गजलें सभी गुनगुनाते रहे
    प्रेम से वास्ता इस कदर हो गया
    दुश्मनी को भीश् दिल से भुलाते रहे
    छोड़ कर हर बुरा ऐब हम तो यहाँ
    राह के कंटको को हटाते रहे
    डाल कर हाथ में हाथ अपना सनम
    हाल दिल का तुम्हें हम सुनाते रहे
    कर दिया आज झूठा हमी को यहाँ
    हम गमों से जिन्हें ही बचाते रहे
    बात दिल की कहूँ आपसे अब सुनो
    रात भर वो हमें ही रुलाते रहे § Read_More....

  • खेल प्रतियोगिता का हुआ शुभारम्भ

    मुख्य समाचार

    रायबरेलीः जन सामना ब्यूरो। न्यू स्टैण्डर्ड ग्रुप आॅफ स्कूल्स द्वारा संचालित विद्यालय न्यू स्टैण्डर्ड पब्लिक स्कूल, बगहा, सलोन, रायबरेली में आज वार्षिक खेल-कूद प्रतियोगिता का शुभारम्भ विद्यालय की संयुक्त प्रबन्धिका श्रीमती रश्मि शर्मा जी एवं विद्यालय की प्रधानाचार्या श्रीमती कामाक्षां सिंह जी ने झण्डा रोहण तथा गुब्बारे हवा में छोड़ करके किया। विद्यालय की संयुक्त प्रबन्धिका श्रीमती रश्मि शर्मा जी ने छात्र-छात्राओं को सम्बोधित करते हुए बच्चो को जंगल में कछुए और खरगोश की कहानी सुनायी एवं बच्चो को इस कहानी के माध्यम से कछुए की तरह निरन्तर प्रयास करने की सलाह दी।
    इस अवसर पर प्री प्राइमरी विंग, एवं प्राइमरी विंग के बच्चो में सिम्पल रेस, जलेबी रेस, वन लेग रेस, सैक रेस, चेयर रेस, पिक द बैलून रेस, पिक्चर रिकोग्नाइजेसन रेस तथा जूनियर विंग के बच्चो में लाँग जम्प, चेस, कैरम आदि खेलो की प्रतियोगिता में बच्चो ने प्रतिभाग किया। § Read_More....

  • दो माह निरस्त रहेगी ऊंचाहार एक्सप्रेस

    मुख्य समाचार

    ऊंचाहारः जन सामना ब्यूरो। ऊंचाहार रेलवे स्टेशन होकर अंबाला से इलाहाबाद के मध्य चलने वाली एकलौती ऊंचाहार एक्सप्रेस गाडी संख्या 14218 डाऊन व 14217 अप को दिनांक 1-12-2017 से 12-02-2018 तक ठंड के कारण निरस्त कर दिया है। जिसका आदेश रेलवे स्टेशन पे आने से स्कूली बच्चों;नौकरी पेशा से लेकर व्यवसायियों व अन्य यात्रियों को असुविधा का सामना करना पड रहा है।ये इस रेलमार्ग की महत्वपूर्ण गाडी को निरस्त किये जाने के पिछे सियासी चर्चाएं भी गर्म है कि जिले की सांसद सोनिया गांधी के संसदीय क्षेत्र होकर चलने वाली गाडी है इसलिये इसको निरस्त राजनीतिक कारणों से किया गया है क्योंकि आने वाले समय मे लोकसभा का चुनाव आ रहा है। § Read_More....

  • यूनिट न बंद करने के निर्णय के सवाल पर उलझा है मामला

    मुख्य समाचार

    ऊंचाहार,रायबरेलीः जन सामना ब्यूरो। भारत सरकार ऊर्जा मंत्रालय की टीम एनटीपीसी हादशे मे जिम्मेदार तक पहुँचने के रास्ते मे बड़ी अड़चन आ रही है। चालू यूनिट मे इतने बड़े क्लिंकर को निकालने का निर्णय किसका था ? इस सवाल पर जांच टीम उलझी हुई है। एनटीपीसी के 6 नंबर ब्वायलर मे फंसे करीब 20 मीटर क्लिंकर को यूनिट के चालू अवस्था मे निकाला जा रहा था। जिसके कारण ब्वायलर ट्यूब , डक्ट और ड्राई ऐश सिस्टम फट गया था। जिसकेर कारण एनटीपीसी के तीन अतिरिक्त महाप्रबंधक समेत कुल 45 लोग मारे गए थे। इस हादशे की जांच के लिए भारत सरकार की कई टीमे लगी हुई है। जिसमे ऊर्जा मंत्रालय की टीम सोमवार को दूसरी बार ऊंचाहार आयी है। यह टीम मंगलवार को भी विभिन्न विंदुओ को खँगालने मे लगी रही है। जांच टीम यह जानना चाहती है कि चालू हालत मे क्लिंकर निकालने का निर्णय किसका था ? इस संबंध मे एनटीपीसी अधिकारी यही तर्क दे रहे है कि कंपनी मे सारे निर्णय समूहिक होते है। कसी एक व्यक्ति का निर्णय नहीं है। लेकिन जांच टीम इस तर्क से सहमत नहीं है। किसी भी यूनिट को बंद करने के लिए ब्वायलर मेंटीनेंस डिपार्टमेन्ट ( बीएमडी ) और ऑपरेशन विभाग मिलकर निर्णय लेते है।द्य इस बात कि जानकारी हासिल कि जा रही है कि दोनों विभागो ने ऐसा कोई सुझाव अधिकारियों को दिया था कि नहीं यदि दिया गया था तो उस पर अमल क्यो नहीं हुआ ? यदि नहीं दिया गया तो क्यो नहीं दिया गया। इसमे कहीं न कहीं किसी बड़े अधिकारी का दबाव था कि यूनिट को बंद न करके चालू हालत मे जोखिम भरा काम किया जाए। टीम यह भी जानने की कोशिश कर रही है कि आखिर विदूयुत उत्पादन बाधित न हो और जान जोखिम मे डालकर काम करने के लिछे कौन कौन है। ऐसी कौन सी मजबूरी थी कि यूनिट को चालू रखना जरूरी था। टीम यह भी जानने की कोशिश कर रही है कि मौके पर सही स्थित का आंकलन करने मे चूक क्यो हुई ? क्योकि ऐसा माना जाता है कि 500 मेगावाट क्षमता वाली यूनिटों मे क्लिंकर अधिक बनता है। और तेजी के साथ बनता है। इस बात के जानकार लोग काम कर रहे थे , फिर भी यह हादशा क्यो हुआ ? इन तमाम सवालो का जवाब एनटीपीसी अधिकारी नहीं दे पा रही है। जांच टीम सही जवाब और सही जिम्मेदार को तय करके भारत सरकार को अपनी रिपोर्ट देना चाहती है। जिसके आधार पर आगे की कार्यवाही की जाएगी।जांच टीम के सवालो के बारे मे एनटीपीसी का कोई भी अधिकारी कुछ भी बोलने को तैयार नहीं है। § Read_More....

  • यातायात के नियमों को सख्ती से लागू करने की मांग

    मुख्य समाचार

    हाथरसः जन सामना संवाददाता। पर्यावरण सुरक्षा संस्थान के तत्वावधान में कामरेड भगवानदास मार्ग, मुरसान गेट स्थित मैथ पोइंट कोचिंग सेन्टर पर यातायात जागरूकता हेतु गोष्ठी आयोजित हुई।
    पर्यावरण सुरक्षा संस्थान के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष भवतोष मिश्र ने अव्यवस्थित यातायात के कारणों व दुष्परिणामों के बारे में विस्तार से प्रकाश डालते हुये व्यवस्थित यातायात के उपाय अपनाने पर बल दिया। उन्होंने जाम के झाम से जनता को निजात दिलाने हेतु अतिक्रमण हटाओ अभियान चलाये जाने व बाजारों में भारी वाहनों के निर्धारित समय पर प्रवेश की पाबंदी के पहले से चले आ रहे नियम को सख्ती से लागू किये जाने की मांग उठायी। श्री मिश्र ने कहा कि यातायात सम्बन्धी विभिन्न मांगों को लेकर शीघ्र ही एक ज्ञापन जिले के प्रभारी मंत्री या पुलिस व प्रशासनिक अधिकारियों को सौंपा जायेगा।
    शिक्षाविद डा. ए. के. शर्मा ने कहा कि यातायात नियमों के बारे में लोगों को अवगत कराने व नियमों का पालन करने के लिये लोगों को प्रेरित करने हेतु यातायात जागरूकता अभियान सतत रूप से चलाने चाहिये। उन्होंने ड्राइविंग लाइसैंस बनाये जाने की प्रक्रिया को और सख्त बनाये जाने की आवश्यकता पर बल दिया। § Read_More....

  • ‘‘एड्सः रोग के प्रकोप संग सामाजिक तिरस्कार का दंश’’

    लेख/विचार

    इसे आधुनिक जीवन के खुलेपन का अवदान कहें या रोग द्वारा विज्ञान को पहली बार परास्त करने की दास्तान कि दुनिया भर के डॉक्टरों की तमाम कोशिशों के बाद भी एक बीमारी ऐसी है जिसकी अभी तक कोई औषधि विकसित नहीं हो पाई है। इस रोग का नाम है ‘एड्स’। एक ऐसी भयंकर और प्राणघातक बीमारी कि जिसका नाम सुनते हीं हम सब दहशत, उद्वेग, डर, घृणा और घबराहट से भर उठते हैं। दरअसल एच.आई.वी नामक इस बीमारी का वायरस एक बार शरीर में प्रवेश करने के बाद शरीर के प्रतिरक्षक पिंड व्यवस्था को तोड़ना शुरू करता है। जैसे-जैसे प्रतिरोधक क्षमता जीर्ण होती जाती है, वैसे-वैसे शरीर में अनेक प्रकार के संक्रमण उत्पन्न होते जाते हैं। ‘एड्स’ एच.आई.वी संक्रमण की अंतिम अवस्था है जिसमें रोगी की प्रतिरक्षक पिंड व्यवस्था पूर्णरूपेण ध्वस्त हो जाती है और वह बेहद हीं छोटी, साधारण-सी बीमारी से भी नहीं लड़ पाता, अत्यंत दुर्बल होकर सदैव घोर रूप से थका हुआ महसूस करता है। इस अवस्था में पहुँचने के बाद एच.आई.वी रोगी व्यक्ति तीन-चार वर्ष से अधिक जीवित नहीं रहता। वायरस जनित अन्य बीमारियों और इस बीमारी में एक विशेष फर्क है कि जहाँ अन्य बीमारियाँ कुछ दिनों या कुछेक हफ्तों में अपने लक्षण प्रकट कर देती है वहीँ एड्स का वायरस बिना किसी प्रत्यक्ष लक्षण के महीनों / वर्षों तक शरीर के अन्दर चुपचाप टी-सेल में छुपा पड़ा रहता है, रोग से अनजान रोगी ऊपर से न केवल पूर्णतया स्वस्थ दिखता है, बल्कि वह स्वस्थ महसूस भी करता है। इसके विषाणु आठ से नौ वर्ष में विकसित होते हैं, जबकि इस अवधि के दौरान संक्रमित व्यक्ति बीमारी के वायरस को न जाने कितने लोगों में हस्तांतरित कर उन्हें भी संक्रमित कर चुका होता है। इसके वायरस के द्रुत गति से फैलने और रोग के महामारी का स्वरुप धरने के पीछे भी यही कारण है। इलाज शुरू होने से पहले हीं देर हो चुकी होती है जबकि वक्त रहते इलाज शुरू कर देने से रोग की उग्रता को काफी हद तक काबू में रखा जा सकता है, एक रिसर्च के मुताबिक भारत में 2.1 मिलियन लोग एच.आई.वी से प्रभावित हैं (2015) तथा दक्षिण अफीका और नाईजीरिया के बाद भारत दुनिया का सबसे बड़ा एड्स प्रभावित देश है।
    § Read_More....

..प्रकाशकः श्याम सिंह पंवार
कार्यालयः 804, वरुण विहार थाना-बर्रा जिला-कानपुर-27 (उ0 प्र0) भारत
सम्पर्क सूत्रः 09455970804
jansaamna@gmail.com ..

Search

Back to Top