Home » 2018 (page 250)

Yearly Archives: 2018

गरीबों को कम्बलों का वितरण ठण्ड में भी नहीं

सिकंद्राराऊः हाथरस। ठंड व शीत लहर से आमजन बेहद परेशान हैं। लोग ठंड से बचने को कई प्रकार के प्रयास कर रहे हैं। हाड़ कपकपाने वाली ठंड से निजात दिलाने के लिए प्रदेश सरकार ने गरीब व असहाय लोगों को मुफ्त में गर्म कंबल वितरण करने को जिलाधिकारी व उपजिलाधिकारियों को कंबल प्रदान किये हैं। लेकिन यहाँ पर सब इसका उल्टा ही हो रहा है। कंबल पाने को प्रतिदिन गरीब असहाय लोग तहसील पहुँच रहे हैं। किंतु उन्हें तहसील प्रशासन द्वारा कंबल प्रदान नहीं किये जा रहे हैं। प्रशासनिक अधिकारियों की यह लापरवाही गरीबों की जान पर बन रही है।
बता दें कि इस समय तापमान लगातार गिर रहा है। जिससे मौसम में ठण्ड का प्रकोप बढ़ता जा रहा है। हाड़ कपकपाने वाली ठण्ड से जनजीवन अस्त व्यस्त हो गया है। ठण्ड से गरीब, असहाय लोगों का बुरा हाल है। गरीब तबके के लोग सरकार द्वारा तहसीलों में निःशुल्क बांटे जाने वाले कम्बलों को पाने के लिये तहसील के प्रतिदिन चक्कर काट रहे हैं। § Read_More....

Read More »

चाणक्य फाउण्डेशन ने मजदूरों को बांटी चाय

फिरोजाबाद। चाणक्य फाउण्डेशन के जिलाध्यक्ष बब्बू पंडित के सौजन्य से गरीब बेसहारा एवं सभी रोजगार तलाशने आये मजदूर भाइयों को चाय वितरित की गयी। फाउण्डेशन के प्रदेश सचिव डा. अखिलेश शर्मा ने कहा नर सेवा नारायण सेवा होती है हम सभी को अपनी खुशियां गरीब के साथ मिलकर बांटनी चाहिये। चाय वितरण में बब्बू पंडित, अखिलेश शर्मा, विकास तोमर, शालू पंडित, अमन शर्मा, वरूण गुप्ता, सचिन भोला, कटारा, प्रवीण गुप्ता, वीनेश दीक्षित, पंकज शर्मा आदि मौजूद रहे। § Read_More....

Read More »

डीएम व एसएसपी ने देखी अतिक्रमण की स्थिति

कानपुरः जन सामना संवाददाता। थाना फजलगंज क्षेत्र में जिलाधिकारी सुरेन्द्र सिंह व एसएसपी कानपुर अखिलेश कुमार मीणा ने निरीक्षण किया। इस दौरान उन्होंने थाने के साथ ही फजलगंज चैराहे से लेकर फायर स्टेशन दादा नगर तक अतिक्रमण की स्थित भी देखी।
इस दौरान उन्होंने निर्देश देते हुए अतिक्रण हटाने व व्यवस्थाओं को ठीक कराने को कहा। अतिक्रमण कारियों की दुकानों को हटवाया गया तथा कई दुकानदारों के चालान भी काटे गये।
इस अवसर पर जिलाधिकारी व एसएसपी के साथ सीओ सूर्यपाल सिंह, एसओ फजलगंज सतीश सिंह तथा एरिया चैकी इंचार्ज उमेश कुमार सहित अन्य पुलिसकर्मी मौजूद रहे। § Read_More....

Read More »

आरोपियों को गिरफ्तार कर भेजा जेल

बसूली को लेकर चूड़ी व्यापारी को गोली मारने का मामला
फिरोजाबादः जन सामना संवाददाता। थाना दक्षिण पुलिस ने विगत दो दिन पूर्व चैथ बसूली को लेकर एक चूड़ी व्यापारी को गोलीमार कर घायल कर दिया था। वही पब्लिक ने एक हमलावर को मौके पर ही दबोच लिया था। उक्त मामले में पुलिस ने तीन लोगों को गिरफ्तार करने के बाद जेल भेजा।
थाना दक्षिण क्षेत्र के टीला मौहल्ला में चूड़ी व्यापारी लालता प्रसाद को देर सायं कुछ लोगो ने गोली मार कर घायल कर दिया था। घटना के बाद भाग रहे हमलावरों में पब्लिक ने दौड़ा कर लाइनपार के छारबाग निवासी रामअवतार पुत्र स्व0 सत्य प्रकाश को दबोच लिया। हमलावर को पब्लिक ने मारपीट कर गम्भीर रूप घायल कर दिया। सूचना पर पहुची पुलिस ने अचेत पडे हमलावर को उपचार के लिए घायल के साथ जिला अस्पताल भिजवाया। § Read_More....

Read More »

कम्युनिकेशन कैसे करें…?

क्रेडिट रोल-सरश्री तेजपारखी ‘तेजज्ञान फाउंडेशन’
व्यक्तिगत जीवन हो या सामाजिक, ऑफिस हो या घर, स्वयं के साथ हो या दूसरों के साथ, सभी जगहों पर दिखनेवाली एक कॉमन समस्या है, ‘मिस कम्युनिकेशन’ यानी गलत तरीके से संवाद करना।
सबसे पहले यह समझना जरूरी है कि कम्युनिकेशन का क्या मतलब है? बातचीत के दौरान एक इंसान सामनेवाले को जो संदेश देना चाहता है, वह उसे मिल जाए और उससे अपेक्षित परिणाम प्राप्त हो तो वह सही कम्युनिकेशन है। जीवन के सभी क्षेत्रों में आज सही संप्रेषण (संवाद) न करने की समस्या दिखाई देती है। साधारणतः बातचीत के दौरान लोग बताना कुछ और चाहते हैं और सुननेवाला कुछ अलग ही समझता है। इसलिए कम्युनिकेशन का पहला एवं महत्वपूर्ण पहलू है- ‘पूरा और सही सुनना, न समझ में आए तो फिर से पूछना।’
पहला पायदान- कम्युनिकेशन का पहला पायदान है, ‘सुनना’। विचारों की भीड़ में खोया हुआ इंसान सही तरह से सुन नहीं पाता। साथ ही किसी से कम्युनिकेशन करते वक्त इंसान उसकी छवि अपने मन में बनाता है और उसके अनुसार सुनता है। इसलिए वह पूरा नहीं बल्कि अपने विचारों के अनुसार जितना उसे आवश्यक लगता है, उतना ही सुनता है। सही कम्युनिकेशन न होने का यह पहला कारण है।
अपना कम्युनिकेशन सुधारने के लिए सामनेवाले की बातें वर्तमान में रहते हुए पूरी सुनें और उसमें अपने विचारों की मिलावट न करें। सही और उत्तम कम्युनिकेशन के लिए केवल बोलने की नहीं बल्कि दिल से सुनने की कला विकसित करें। वरना आधा सुनकर लोग अकसर कह देते हैं, ‘मैं समझ गया’ मगर वे नहीं समझे होते हैं। ऐसे वक्त हमें सामनेवाले से पूछ लेना चाहिए कि उसने क्या समझा। इसे कहा गया है सही और पूर्ण कम्युनिकेशन। § Read_More....

Read More »

शीत लहर जोरों पर, नहीं जल रहे सरकारी अलाव

खीरों, रायबरेली। इस समय सर्दी पूरे जोरों पर है। शीत लहर और घने कोहरे से आम जनजीवन पूरी तरह से अस्त-व्यस्त नजर आ रहा है। नव वर्ष की पहली शीत लहर लगातार छठे दिन भी प्रभावी रही। शनिवार को सूरज की किरणें धरती पर जरुर पड़ी लेकिन तापमान में कोई बढ़ोत्तरी नहीं आई। जिससे लोगों की कपकपी छूट गई। मौसम की पहली शीत लहर ने बुजुर्गों और बीमारों के लिए मुसीबत खड़ी कर दी। इसके बावजूद अभी तक प्रशासन द्वारा अलाव जलाए जाने की कोई व्यवस्था न कराए जाने से लोगों में काफी आक्रोश है। खीरों कस्बे के सैकड़ों ग्रामीणों ने शासन-प्रशासन से भीषण ठंड पर काबू पाने के लिए अलाव जलवाने की गुजारिश की है जिससे गरीब बेसहारा एवं निराश्रितों का भला हो सके। जनवरी माह का प्रथम सप्ताह बीतने को है फिर भी अभी तक प्रशासनिक अधिकारियों की नींद नहीं टूटी।
कड़ाके की ठंड से न्यूनतम तापमान 5 डिग्री तक पहुंच गया है जिसके चलते जबरदस्त कपन का एहसास हो रहा है। ठंड से मवेशियों की भी स्थिति गंभीर हो गई है। खुले में विचरण करने वाले मवेशी ठंड से बचने के लिए रिहायशी इलाकों की तरफ भागने लगे हैं। ठंड के कारण सड़कों पर भीड़ गायब हो गई है। गावों में गरीब तपके के लोग ठंड के कारण बुरी तरह बेहाल हैं। प्रशासन द्वारा अलाव जलवाने का दावा महज दिखावा साबित हो रहा है। सार्वजनिक स्थलों पर भी अलाव जलते नहीं दिखाई देते। लोग अपने स्तर से अलाव की व्यवस्था करते देखे जा रहे हैं। तापमान में जबरदस्त गिरावट आ जाने के कारण लोगों की दिनचर्या बुरी तरह प्रभावित है। तहसीलदार डॉ जगन्नाथ सिंह में बताया कि विकास क्षेत्र में अलाव जलाने के लिए 12 स्थान चिन्हित हैं, इसके अतिरिक्त अगर कहीं आवश्यकता होती है तो व्यवस्था की जाएगी। शासन के निर्देष पर कम्बल वितरित करने का कार्य जारी है। § Read_More....

Read More »

तालाब को अवैध कब्जों से कराया मुक्त

खीरों/रायबरेली। थानाक्षेत्र के कस्बा खीरों में अतिक्रमण हटाओ अभियान के तहत उप जिलाधिकारी लालगंज मदन कुमार व उनकी टीम व खीरों पुलिस की टीम ने शनिवार को एक बड़े तालाब की जमीन के रकबे पर अवैध कब्जा हटवाया। जमीन पर भूमाफियाओं ने कब्जा कर गेहूँ बो रखा था। उन्होंने ट्रैक्टर चलवाकर खेडी गेहूँ की फसल जोतवा दी, जिससे क्षेत्र के सभी भूमाफियाओं में हडकंप मच गया।
समाधान दिवस में खीरों थाने पहुँचे एसडीएम लालगंज मदन कुमार और तहसीलदार डॉ जगन्नाथ सिंह, नायब तहसीलदार रितेश सिंह, कानूनगो खीरों सुशील कुमार सिंह ने फरियादियों की समस्याएं सुनी। इस दौरान कुल 6 मामले आये, जिन्हें तुरंत मौके पर राजस्व विभाग और पुलिस की टीम भेज कर मौके पर निस्तारित कराया। इसके बाद खीरों के कमनइया तालाब पर पहुंचकर ग्रामीणों द्वारा कुल 21 बीघे तालाबी जमीन पर अवैध रूप से बोये गए गेहूँ की फसल जोतावाकर अतिक्रमण हटवाया। § Read_More....

Read More »

युद्ध स्मारकों को जातीय चश्में से न देखा जाए

सुशील स्वतंत्र

नया साल हर तीन सौ पैंसठ दिनों के बाद आ जाता है लेकिन 2018 के पहले दिन को हम इस लिहाज से अलग कह सकते हैं कि इस दिन ने देश के दो युद्ध स्मारकों को भी जातीय बहस का हिस्सा बना डाला। 200 वर्ष पहले 500 महारों की ब्रिटिश सैन्य टुकड़ी ने हजारों पेशवा सैनिकों को धूल चटाकर मराठा शासन को इस देश से खत्म किया था। उन वीर लड़ाकों की याद में अंग्रेजों ने वैसा ही युद्ध स्मारक भीमा कोरेगांव में ‘जय स्तंभ’ (विक्ट्री पिलर) के नाम से बनाया जैसा देश की राजधानी दिल्ली में इंडिया गेट के नाम से बनवाया गया है। यह अंग्रेजों की परम्परा रही है। ऐसे विजय के प्रतीक देश के अन्य स्थानों पर आज भी मिल जाएंगे। दिल्ली के नजदीक नॉएडा के गाँव छलेरा में भी ऐसा ही एक युद्ध स्मारक है जिसे स्थानीय लोग ‘विजय गढ़’ कहते हैं। युद्ध में शहीद सैनिकों के गाँव के आस-आस ब्रिटिश हुकूमत ऐसे स्मारकों का निर्माण करवा दिया करती थी।
1 जनवरी 1818 को छोटी सी महार सैन्य टुकड़ी द्वारा अनुशासित, प्रशिक्षित और सुसज्जित मानी जाने वाली विशाल पेशवा सेना पर प्राप्त किए गए विजय के भारत के दलित समाज के लिए अनेक मायने हैं। 19वीं सदी के पेशवा राज में दलितों की सामाजिक स्थिति को समझे बिना, कोरेगांव विजय का दलितों के लिए महत्त्व को नहीं समझा जा सकता है भारतीय इतिहास का यह वही कलंकित दौर था जब जाति विशेष के लोगों के गले में हांडी और कमर में झाड़ू बंधा होता था। जब जाति को छिपाना अक्षम्य अपराध की श्रेणी में आता था। पेशवा शासकों द्वारा इंसानों के एक समुदाय को अछूत घोषित कर उनपर लम्बे समय से शोषण और भेदभाव किया जा रहा था। § Read_More....

Read More »

विकलांग की पुकार-मिलन फाउंडेशन का साहित्य संगम सम्पन्न

अकादमी साहित्य की अभिवृद्धि के लिए सदैव समर्पितः प्रो नन्दलाल पाठक
विकलांग की पुकार का कार्य सराहनीयः प्रेम शुक्ल
अश्विनी कुमार मिश्र, ह्रदयेश मयंक, महेश दुबे, राजेश विक्रांत, अनिल गलगली, डॉ अनन्त श्रीमाली, खन्ना मुजफ्फरपुरी, चन्द्र प्रकाश पांडेय हुए सम्मानित
मुंबईः जन सामना ब्यूरो। राष्ट्रीय हिंदी साप्ताहिक समाचार पत्र विकलांग की पुकार द्वारा साहित्य, समाज, कला, संस्कृति व खेलकूद की बेहतरी के प्रति समर्पित संस्था ष्मिलन फाउंडेशन आयोजित एक शाम साहित्य के नाम में कार्यक्रम के अध्यक्ष महाराष्ट्र राज्य हिंदी साहित्य अकादमी के कार्याध्यक्ष प्रो नन्दलाल पाठक ने कहा कि अकादमी साहित्य के क्षेत्र में उल्लेखनीय योगदान देने वालों को प्रोत्साहित करती रहेगी। अकादमी साहित्य की अभिवृद्धि के लिए सदैव समर्पित है। उन्होंने सभी पुरस्कार विजेताओं को हार्दिक शुभकामनाएं भी दी। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि भाजपा के राष्ट्रीय प्रवक्ता प्रेम शुक्ल ने कहा कि अकादमी ने इस वर्ष जिन लोगों को पुरस्कार दिया है उसमें पारदर्शिता है और इसके लिए महाराष्ट्र राज्य हिंदी साहित्य अकादमी का निर्णय प्रशंसनीय है उन्हें सम्मानित कर विकलांग की पुकार और मिलन फाउंडेशन ने अच्छा काम किया है।
सांताक्रुज के मौलाना आजाद हाल में सम्पन्न इस कार्यक्रम में महाराष्ट्र राज्य हिंदी साहित्य अकादमी द्वारा 2016-17 के लिए पुरस्कृत होने वाले साहित्यकारों / हिंदी सेवियों इंद्र बहादुर सिंह, प्राचार्य व शिक्षाविद, अश्विनी कुमार मिश्र, संपादक निर्भय पथिक, ह्रदयेश मयंक, कवि व संपादक चिंतन दिशा, महेश दुबे, व्यंग्यकार एवं हास्य कवि तथा पत्रकार व्यंग्यकार राजेश विक्रांत को साहित्य मिलन सम्मान से सम्मानित किया गया। साथ ही मिलन फाउंडेशन के कैलेंडर तथा विकलांग की पुकार के साहित्य मिलन विशेषांक (अतिथि संपादक आफताब आलम, संपादक पत्रकारिता कोश) का विमोचन भी अतिथियों द्वारा किया गया। § Read_More....

Read More »

सीडीओ ने किया जिला अस्पताल में औचक निरीक्षण

बाहरी दवा लिखने पर डा. राजीव अग्रवाल के खिलाफ कार्यवाही के दिये निर्देश
चिकित्सक ने सफाई में कहा कि बाहरी लोग चिकित्सक के पास बैठकर लिखते है बाहर की दवा
फिरोजाबादः जन सामना संवाददाता। जिला अस्पताल में आज सुबह मुख्य विकास अधिकारी ने औचक निरीक्षण किया। जिसमें एनसीडी विभाग में गन्दी चादरों, बाहरी दबा लिखने व एक चिकित्सक के नदारत मिलने पर काफी नाराज नजर आये। वही एक चिकित्सक के खिलाफ कार्यवाही करने के सीएसएस को आदेश करते हुए रैन बसेरा का भी निरीक्षण किया। लगभग एक घण्टा रूकने पर अस्पताल प्रशासन में हडकम्प मचा रहा।
शुक्रवार की दोपहर कोहरें के कारण हर कोई खुद को सर्दी के बचाने के लिए प्रयास कर रहा था। वही जिला अस्पताल में अचानक औचिक निरीक्षण के लिए मुख्य विकास अधिकारी अशोक कुमार पहुंचे पर अस्पताल प्रशासन में हडकम्प मच गया। वृद्ध ओपीडी में पहुचे के बाद मरीजों के नीचे बिछी फटी चादरों को देख नाराज हुए वही चर्मरोग चिकित्सक के अवकाश पर जाने पर उनके स्थान पर डा0 प्रमोद कुमार की डयूटी लगायी गयी थी। वह कक्ष में नही मिले उसके बाद ओपीडी में जाने से पर्व रजिस्टेशन खिडकी लगी भीड को देख पूछने पर लोगो ने शिकायत की कि पर्ची नही बनायी जा रही है। जिसको लेकर सीडीओ सहाब ने सीएमएस डा0 आर0 के0 पाण्डे पर फोन पर बात की पता चला कि आज हाफ डे है। छुट्टी के कारण 11.30 पर पर्ची बनना बन्द कर दी गयी है। उसके बाद कक्षें में चिकित्सको को बैठा देखा दवा वितरण कक्ष पर एक महिला ने शिकायत की उसको बाहर की दवा लिखी गयी है। कुछ की देर में काफी लोगो को बाहरी दवा लिखी पर्ची मिलने पर कक्ष संख्या 10 में बैठै चिकित्सक डा0 राजीव अग्रवाल की शिकायत मिलने पर सीडीओ सहाब के समाने पेश किया गया। जहां उनसे आगे बाहर की दबा न लिखने की हिदायत दी गयी। उसके बाद वार्ड नम्बर चार में भी गन्दी चादरों को देख काफी नाराज हुए। § Read_More....

Read More »