Home » 2018 » March (page 5)

Monthly Archives: March 2018

सपा ग्रामीण कार्यालय में महावीर जयंती का किया आयोजन

कानपुरः जन सामना संवाददाता। समाजवादी ग्रामीण के तत्वावधान में जिलाध्यक्ष राघवेंद्र सिंह यादव की अध्यक्षता में पार्टी कार्यालय में 24 वें महावीर जयंती पर जिलाध्यक्ष राघवेंद्र सिंह यादव ने श्रद्धा सुमन अर्पित किए। राघवेंद्र सिंह यादव ने महावीर स्वामी के चित्र पर पुष्प एवं माल्यार्पण करते हुए। कहा कि महावीर स्वामी का जन्म 599 ईशा पूर्व हुआ था इनका नाम वर्द्धमान था उन्होंने कहा कि वह अहिंसा के प्रमुख ध्वजवाहकों में से एक है। भगवान महावीर के उद्देश के अनुसार यह दुनिया में जितना भी जीव है उन पर कभी भी हिंसा नहीं करनी चाहिए परंतु बड़े दुख की बात है कि आज के बदलते राजनीतिक माहौल में राजनीतिक दल सत्ता हासिल करने हेतु हिंसा का रास्ता चुनते हैं महावीर स्वामी सत्य के पुजारी थे § Read_More....

Read More »

निजी विद्यालयों की मनमानी रोकने की मांग की

कानपुर, स्वप्निल तिवारी। प्रदेश के सीबीएसई और आईसीएसई से सम्बद्ध निजी स्कूलों में शिक्षा के बदसूरत व्यापारीकरण की शिकायतें लगातार आ रही हैं। फिर से नये सत्र के लिए कुछ स्कूलों ने तो लाखों में फीस मांगना शुरू कर दिया है। सपा व्यापार सभा और प्रान्तीय व्यापार मण्डल से जुड़े व्यापारियों ने इसके खिलाफ अभियान की शुरुआत की। प्रान्तीय व्यापार मण्डल के प्रदेश अध्यक्ष और सपा व्यापार सभा के प्रदेश उपाध्यक्ष अभिमन्यु गुप्ता के नेतृत्व में व्यापारी आज कानपुर की किदवई नगर विधानसभा के भाजपा विधायक महेश त्रिवेदी से उनके निवास पे मिले और विधायक को राज्यपाल और मुख्यमंत्री के नाम सम्बोधित ज्ञापन देकर तत्काल स्कूलों की आड़ में चल रहे व्यापार पे लगाम लगाने की मांग रखी गई।ज्ञापन में कहा गया की व्यापार करने का काम व्यापारियों का होता है जो की अपने परिवार के पालन पोषण और सामाजिक दायित्त्वों के निर्वाह के लिए अपने व्यापार से मुनाफा कमाते हैं। स्कूल तो एक नेक जनसेवा का काम है जिसमे मुनाफा कभी नहीं देखा जाता सिर्फ छात्र का बेहतर भविष्य निर्माण देखा जाता है ताकि वह काबिल बने और राष्ट्र निर्माण में अपना अहम योगदान दे सके।पर उत्तर प्रदेश के कई निजी स्कूल अब ट्रेडिंग और बिजनेस हाउस की तरह चलते हुए ट्यूशन और एडमिशन फीस, किताबों स्टेशनरी की खरीदने की अनिवार्यता, स्कूल ड्रेस की अनिवार्यता के नाम पे लाखों की फीस वसूल रहे हैं। कानपुर के एक निजी स्कूल में नर्सरी की फीस 1.5 लाख से ज्यादा मांगी गई है। स्कूलों को अपना नाम पब्लिक स्कूल की जगह ट्रेडिंग एजेंसी रख लेना चाहिए। फीस लीजिये एक हद तक उसमे कोई दिक्कत नहीं है पर लाखों की फीस लेना सही मायने में देश के साथ अपराध है। ज्ञापन में मांग की गई कि सरकार ही फीस तय करे।जैसे दिल के इलाज, घुटना प्रत्यारोपण के इलाज के लिए फीस की सीमा तय है तो ऐसे ही स्कूल की फीस तय होनी चाहिए। जैसे पेट्रोल, डीजल, एलपीजी, रेल किराया दर तय है ऐसे ही स्कूल की फीस सरकार तय करे। ज्ञापन में मांग रखी गई की सरकारी स्कूल के हालात बेहतर किये जाएं।व्यापारियों के टैक्स के पैसे से सरकारी सकूल चलते हैं तो उन पैसों का सही उपयोग हो। दिल्ली में केजरीवाल सरकार ने सरकारी स्कूलों का स्तर सुधारा है ऐसे ही उत्तर प्रदेश सरकार भी सरकारी स्कूलों पे ध्यान दे।सकूल से ही किताब ड्रेस लेने आदि की अनिवार्यता खत्म हो। सिलेबस सीबीएसई आईसीएसई का एक हो और किताबें भी एक ही हों जिनको कहीं से भी खरीदा जा सके । इससे कीमत पे लगाम लगेगी। आरटीई में दाखिला न देने वाले स्कूलों की मान्यता खत्म हो और ऐसे मामलों में स्कूल प्रबंधकों पे फौरन अपराधिक मुकदमा दर्ज होना चाहिए।स्कूलों में आरटीई के तहत सभी आवेदनों में से 25 प्रतिशत आवेदन जरूर लिए जाएं।सभी आवेदनों की सही सूची स्कूल तैयार रखे और जिलाधिकारी उन आवेदकों पर हुई कार्यवाही का हर मई में निरीक्षण करें। अभिमन्यू गुप्ता ने कहा की चीन जैसे दुश्मन मुल्क भी अपने देश के बच्चों की शिक्षा पर विशेष ध्यान रखते हैं।वहां फीस कभी अवरोध नहीं बनती क्योंकि सरकार अपने नियंत्रण में सब रखती है।बच्चा महंगी शिक्षा लेकर महंगे वातावरण को ही भविष्य में अपनाता है और फिर राष्ट्र निर्माण से ज्यादा खुद के निर्माण में लग जाता है और यहीं से भ्रष्टाचार की शुरुआत होती है। व्यापारी पहले ही जीएसटी नोटबंदी से बर्बाद है और अब अपने बच्चों के लिए लाखों की फीस की चोट भी झेल रहे हैं। § Read_More....

Read More »

अपने अस्तित्व को खोती पीतल नगरी मीरजापुर

मीरजापुरः संदीप कुमार श्रीवास्तव। पीतल नगरी के नाम से देश में अपनी एक अलग पहचान बिखेरने वाला उत्तर प्रदेश का जिला मीरजापुर आज अपने अस्तित्व व चमक बचाने की जंग लड़ रहा है। एक जमाना था जब कई देशों अमेरिका, जर्मनी, ऑस्ट्रेलिया, पेरू, मलेशिया व स्विट्जरलैंड से कच्चे माल के रूप में हनिस्क्रेप, टोकन, जर्मन सिल्वर, पीतल, तांबा व जस्ता आदि मीरजापुर में जल मार्ग से आया करता था। आज से लगभग तीस वर्ष पूर्व हर घर में लोगों के पास काम होता था। एक व्यापारी के यहाँ सौ से अधिक मजदूर प्रतिदिन काम करते थे जिसमें कच्चा माल गलाना, ढालना, स्क्रेचिंग, बफिंग व पॉलिशिंग आदि करना शामिल था। उस जमाने में पीतल धातु को गरीबों का सोना भी कहा जाता था। यहाँ तक की जिस क्षेत्र में पीतल का काम सबसे अधिक होता था उसे कारीगरों ने सोनवर्षा का नाम दे दिया जिसे आज सोनवर्षा के नाम से पुकार जाता है।
मीरजापुर का बना हस्त निर्मित पीतल व गिलट का बर्तन हंडा, परात, गगरा, थाली, राजगढ़ी थाली, लोटा, कटोरा, कलशा, पतीला, कलछुल, परागी लोटा, पूर्वी परात का पड़ोस के जनपदों व प्रदेशों में बड़े पैमाने पर मांग रहती थी। सुबह के चार बजे से देर रात तक बर्तनों का शोर पूरे शहरी क्षेत्र में सुनाई पड़ता था। शादी-विवाह व त्योहारों के सीजन में मांग बढ़ जाने से उन दिनों कारीगरों व व्यापारियों के पास फुर्सत नहीं रहती थी। गैर जनपदों से कारीगर काम की तलाश में मीरजापुर आते थे।
पीतल बर्तन उद्योग सन् 1980 तक अपने चरम पर था। मीरजापुर हस्त निर्मित पीतल बर्तन उद्योग में कसेरा जाति के लोग जिन्हें ठठेरा भी कहा जाता है अधिक संख्या में जुड़े होते थे जिनका एक इलाका कसरहट्टी के नाम से जाना जाता है। वो आज भी इस उद्योग से जुड़े हुए हैं। मीरजापुर का पीतल बर्तन उद्योग यहाँ का पारंपरिक उद्योग है जिसे पीढ़ी दर पीढ़ी सदियों से आज भी लोग करते आ रहे हैं।
200 वर्षों से भी पुराना पीतल बर्तन उद्योग आज उपेक्षा का दंश झेल रहा है और अपने उत्थान के लिए डूबते को तिनके का सहारा को लंबे अर्से से इंतजार है। वैसे तो मीरजापुर का पारम्परिक व्यापार लाही, चपड़ा, कालीन उद्योग व पीतल बर्तन उद्योग था लेकिन लाही चपड़ा का व्यापार तो बिलकुल ही समाप्त हो गया है वहीं कालीन उद्योग और पीतल बर्तन उद्योग अपनी पहचान बचाने की जंग आज भी लड़ रहा है। § Read_More....

Read More »

मिशन 2019: अपना दल की ताकत बढ़ाने की तैयारी में भाजपा

मीरजापुरः संदीप कुमार श्रीवास्तव। राज्यसभा चुनाव में भाजपा के पक्ष में एकजुटता से खड़े होने से अपना दल का कद बढ़ गया है। पूर्वांचल के 10 जिलों में पटेल समुदाय के मतदाताओं की प्रभावी भूमिका के मद्देनजर भाजपा में अपना दल को रिटर्न गिफ्ट देने की अटकलें लगने लगी हैं। रिटर्न गिफ्ट के पीछे भाजपा की नजर 2019 के लोकसभा चुनाव पर है तो अपना दल इसे अपना जनाधार बढ़ाने के लिए सुनहरा अवसर मान रही है। फिलहाल, केंद्र में अपना दल से अनुप्रिया पटेल और यूपी में जयकिशन सिंह जैकी राज्यमंत्री हैं।
कहा जा रहा है कि राज्यसभा चुनाव में सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी (सुभासपा) के अध्यक्ष और कैबिनेट मंत्री ओम प्रकाश राजभर द्वारा तोल-मोल के बावजूद अपनी पार्टी के दो विधायकों का वोट न दिला पाने की चर्चाओं से अपना दल का महत्व और बढ़ गया है।
पूर्वांचल में राजभर समुदाय की राजनीतिक अहमियत के कारण ही भाजपा के अनिल राजभर प्रदेश में स्वतंत्र प्रभार के राज्यमंत्री हैं, जबकि बलिया के सकलदीप राजभर को राज्यसभा के लिए चुन लिया गया है। § Read_More....

Read More »

बंदरों के बढ़ते आतंक से लोग परेशान

⇒जिला अस्पताल में बंदर एवं कुत्ता काटने के बाद लगने वाली सुई 5 दिनों से नदारद
मीरजापुरः संदीप कुमार श्रीवास्तव। नगर के विभिन्न मोहल्लों में बंदरों का आतंक बढ़ता जा रहा है जिससे लोगों का छत पर जाना मुश्किल हो गया है। यही नहीं अब बंदर कॉलोनी की गलियों में खुलेआम अपना डेरा जमाए हुए हैं और आने जाने वाले राहगीरों बच्चों को अपना शिकार बना रहे हैं। बुधवार को शाम 4 बजे गैवी घाट मोहल्ले में बंदर ने रोहित 9 वर्ष पुत्र अशोक को काट लिया जिससे वह बुरी तरह घायल हो गया। इसके 4 दिन पूर्व गैबी घाट मोहल्ले में ही यस 7 वर्ष को बंदर ने काट लिया था जिसका उपचार चल रहा है। इसी तरह बंदरों का आतंक बढ़ता जा रहा है। नगर पालिका या प्रशासन द्वारा बंदरों को पकड़ने की कोई व्यवस्था नहीं है जिससे बेखौफ होकर बंदर नरभक्षी होते जा रहे हैं । पिछले वर्ष एक बंदर ने दर्जनों बच्चों को अपना शिकार बनाया था जिससे जनता के विरोध को देखते हुए प्रशासन ने बाहर से बंदर पकड़ने वाली टीम को बुलवाकर उस बंदर को पकड़वाया था । पुनः बंदरों का आतंक फिर से व्याप्त हो गया है जिससे लोग अपने छत एवं सुनसान बाहर गलियों में निकलने हेतु घबरा रहे हैं। लोगों में नगर पालिका प्रशासन एवं जिला प्रशासन के प्रति घर आक्रोश है। बंदरों द्वारा काटे गए बच्चों को सुई लगवाने हेतु जब परिजन जिला अस्पताल जा रहे हैं तो वहां पर अस्पताल प्रशासन द्वारा सुई न रहने की बात कही जा रहीे हैं। § Read_More....

Read More »

प्रशासन ने चकमार्ग से हटवाए अवैध कब्जे

– कार्यवाही से शिकायतकर्ता असंतुष्ट
घाटमपुर, कानपुरः जन सामना संवाददाता। कस्बे के मुगल रोड स्थित सिहारी देहात क्षेत्र में स्थित चकरोड को स्थानीय तहसील प्रशासन द्वारा नगर पालिका के सहयोग से साफ करवाया गया। इस दौरान खड़ी गेहूं की पकी फसल जेसीबी मशीन रौंदती रही प्राप्त जानकारी के अनुसार मोहल्ला हाफिजपुर निवासी बदलू कुरेशी मिस्त्री ने मुख्यमंत्री कार्यालय को प्रार्थना पत्र भेजकर कर्बला को जाने वाला चकरोड खुलवाए जाने की शिकायत की थी। प्रशासन द्वारा शिकायत को संज्ञान में लेते हुए स्थानीय प्रशासन से कर्बला को जाने वाले चकमार्ग को तत्काल साफ करवाए जाने के निर्देश दिए गए थे। आज दोपहर नायब तहसीलदार खास मौजीलाल नायब तहसीलदार पश्चिमी राकेश कुमार लेखपाल राजकुमार दुबे आलोक तिवारी पुत्तन वर्मा आदि की टीम ने मौके पर पहुंचकर नगर पालिका के सफाई दस्ते के साथ चकमार्ग को श्रब्ठ मशीन द्वारा साफ करवाया इस संबंध में कुछ स्थानी पत्रकारों ने एसडीएम से जानकारी करने की कोशिश की लेकिन ड्राइवर द्वारा व्यस्तता की बात कह कर टाल दिया गया § Read_More....

Read More »

दबंगों ने महिला के साथ की मारपीट

घाटमपुर, कानपुरः जन सामना संवाददाता। ग्राम बालाहापारा में दबंगों ने खेत से लौट रही महिला को जमकर मारा-पीटा और जान से मारने की धमकी देते हुए मौके से भाग निकले ।प्राप्त जानकारी के अनुसार ग्राम बलाहा पारा निवासी खन्ना संखवार की पत्नी ललिता ने पुलिस को बताया कि बीती शाम वह अपने खेत से वापस घर लौट रही थी । रास्ते में गांव के भानु ब माना ने उसे पकड़ लिया और खेत से चना चुराने का आरोप लगाकर उसे खेत के अंदर खींचने लगे। विरोध करने पर दोनों ने उसे इतना मारा पीटा कि उसकी पेशाब छूट गई शोर सुनकर मौके पर ग्रामीणों को आता देख दोनों मौके से भाग निकले पीड़िता का कहना है कि वह इसकी शिकायत लेकर पतारा चैकी गई थी लेकिन पुलिस ने कोई कार्यवाही नहीं की आज वह न्याय के लिए कोतवाली आई थी। § Read_More....

Read More »

वृद्ध के साथ पुत्र व बहू ने की मारपीट

घाटमपुर, कानपुरः संवाददाता। क्षेत्र के ग्राम तेजपुर में वृद्ध द्वारा खेती के पैसे मांगने पर नाराज पुत्र व उसकी पत्नी ने मारपीट की पीड़ित ने स्थानीय पुलिस से शिकायत कर न्याय की गुहार लगाई है। प्राप्त जानकारी के अनुसार ग्राम तेज पुर निवासी कृपाशंकर 76 वर्ष ने स्थानीय पुलिस को बताया कि उसके छोटे पुत्र अनिल कुमार व उसकी पत्नी सुनीता देवी का उसके प्रति व्यवहार अच्छा नहीं है। बीती शाम वृद्ध ने जब अपने हिस्से के खेत के बलकट का पैसा मांगा तो वह लोग गाली गलौज करने लगे तथा अनिल उसकी पत्नी सुनीता ने उसके साथ मारपीट की शोर सुनकर दौड़े पड़ोसियों ने वृद्ध को बचाया। इस बीच बचाने आए भतीजे रजोल को भी बहू और बेटे ने मारा पीटा पीड़ित वृद्ध का कहना है कि वह विकलांग है और अपना कार्य करने में अक्षम है तब भी बहू बेटा उसका ख्याल नहीं रखते हैं। § Read_More....

Read More »

दबंग ने ट्रक मालिक को डंडों से पीटा

घाटमपुर, कानपुरः जन सामना संवाददाता। नशे में धुत युवक ने ट्रक मालिक को दुकान के अंदर लात-घूसों डंडों से पीटकर घायल कर दिया । पीड़ित ने स्थानीय पुलिस से शिकायत की है। प्राप्त जानकारी के अनुसार कस्बे के मोहल्ला जवाहर नगर उत्तरी निवासी दयाराम सचान के पुत्र नीरज कुमार सचान ने स्थानीय पुलिस से शिकायत की है कि दोपहर में वह अपनी हमीरपुर रोड स्थित दुकान में बैठा था तथा ट्रकों का हिसाब ले रहा था इसी दौरान नशे में पहुंचे शशि सचान ने उसे गाली गलौज के बाद मारना पीटना शुरू कर दिया जिससे उसे चोट आई। § Read_More....

Read More »

विश्व हिन्दू महासंघ द्वारा सामाजिक समरसता कार्यक्रम 29 को

फिरोजाबादः जन सामना संवाददाता। विश्व हिन्दू महासंघ के जिलाध्यक्ष अंकित उपाध्याय महानगर अविनाश तौमर, जिला महामंन्त्री अंिकत तिवारी, उपाध्यक्ष सुनील सिंह ने संयुक्त रूप से बताया कि महासंघ द्वारा एक भव्य कार्यक्रम का आयोजन 29 मार्च 2018 को अमन होटल में कराया जायेगा।
जिसमें प्रदेश अध्यक्ष हिन्दू महासंघ भिखारी प्रजापति भाग ले रहे है। जो कि हिन्दूओं पर होने वाले अत्याचारों व संगठन के बारे में कार्यकर्ताओं को बतायेगें। वही ’’सामाजिक समरसता हिन्दुुत्व का प्राण है’’ हम लोगो को जाति पंथ से उठकर लोगों में समरसता जागरूक करेगें तो ही हमारा समाज एक जुट होकर आंतरिक बाहरी आक्रान्ताओं से संघर्ष कर सकता है। § Read_More....

Read More »