Home » 2018 » April » 06

Daily Archives: 6th April 2018

भाजपाइयों ने मिष्ठान वितरण कर मनाया पार्टी का स्थापना दिवस

भाजपा देश की प्रगति है-जय विजय सिंह
कानपुरः जन सामना ब्यूरो। 6 अप्रैल को भारतीय जनता पार्टी 38 बरस की हो गई। इस दौरान पार्टी ने काफी उतार-चढ़ाव देखे। एक समय पूरे देश में केवल 2 सांसदों वाली पार्टी ने आज पूरे देश में अपना व्यापक जनाधार खड़ा कर लिया है। शुक्रवार को पार्टी के स्थापना दिवस के अवसर पर कार्यकर्ताओं ने बूथ स्तर पर जगह-जगह विचार गोष्ठियां आयोजित कर मिष्ठान वितरण किया। इस मौके पर पार्टी की नीतियों सिद्धांतों तथा आदर्शों को जन जन तक विस्तारित करने का संकल्प लिया गया । बताया गया कि जनसंघ से भारतीय जनता पार्टी बनी भाजपा की स्थापना 6 अप्रैल 1980 को हुई थी। गोविंद नगर स्थित नंदलाल चौराहा में पार्टी के आयोजित स्थापना दिवस कार्यक्रम मे मुख्य अतिथि भाजपा दक्षिण जिले के प्रवासी एवं भाजपा चित्रकूट जिला के पूर्व अध्यक्ष जय विजय सिंह चौहान ने कहा कि भाजपा देश की प्रगति है, विकास का चरमोन्मुख है और प्रत्येक व्यक्ति की मुखर आवाज है। उन्होंने कहा कि पार्टी की स्थापना के समय पार्टी के लगभग दो ही सांसद हुआ करते थे पर आज यह संख्या लगभग 300 के आसपास पहुंच गई है। यह सब पार्टी की नीतियों, सिद्धांतों व आदर्शों का ही परिणाम है कि आज यह पार्टी जन -जन की पार्टी बन गई है। एक समय तथाकथित राजनैतिक दलों की नजरों में अछूत समझा जाने वाला यह दल आज देश का ही नही बल्कि दुनिया का सबसे बड़ा राजनीतिक दल बन गया है। पार्टी को इस शिखर तक पहुंचाने में जहां पंडित दीनदयाल उपाध्याय, श्यामा प्रसाद मुखर्जी का बलिदान रहा है वही निश्चित रुप से देश के पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेई, भाजपा नेता लालकृष्ण आडवाणी व मुरली मनोहर जोशी जैसे आदर्शवादी, कर्मठ इमानदार लोह पुरुषों का यातना व त्यागमय संघर्ष रहा है। उन्होंने यह भी कहा कि भाजपा कार्यकर्ताओं में देशभक्ति कूट- कूट कर भरी हुई है। भाजपा कैडर आधारित एवं अनुशासित पार्टी है। देश के यशस्वी प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी के नेतृत्व मे भाजपा की नीतियों के परिणामस्वरूप ही आज देश चँहुमुखी प्रगति कर रहा है। कश्मीर मे आतंकियों की कमर टूट रही है। अलगाववादी नेता भीगी बिल्ली बन गए है। उन्होंने कहा कि भाजपा जितनी मजबूत होगी देश भी उतना मजबूत होगा। § Read_More....

Read More »

बेबस बाप के लाचार बेटे की खाट पर सिमटी दुनियां

– आर्थिक तंगी बनी इलाज में रोड़ा, मदद की आस
सच्चिदानन्द सिंह, मीरजापुर। जिस बाप ने बचपन में उंगली पकड़कर चलना सिखाया, सोचा था कि बेटा बड़ा होकर उनके बुढ़ापे का सहारा बनेगा। जवान बेटे की गृहस्थी बसाने के लिए बाप ने उसकी शादी कर दी। बेटा अपने बाप के अरमान को पूरा करने के लिए ट्रक चालक बनकर सूरत में कमाई करने लगा। पिछले वर्ष 2017 जनवरी माह की 11 तारीख उसके और परिवार के लिए मनहूस बनकर आई। दो ट्रकों की टक्कर में जवान बेटा गंभीर रूप से घायल हो गया। उसके दोनों पैर बुरी तरह घायल होने के कारण बेकार हो गए। पेट में भी अंदरूनी चोट लगने से कई अंग शिथिल पड़ गए। पेट व पैर के कई आपरेशन के बाद भी वह बेड पर ही पड़ा है। उसकी सारी दुनिया बेड पर ही सिमट गई है। अपने विकलांग बेटे को खड़ा करने के लिए बाप ने अपने पुश्तैनी खेत तक बेच दी, लोगों से कर्ज लेकर उसका इलाज कराया कि बेटा किसीअपने पैरों पर खड़ा हो जाए। आर्थिक तंगी के चलते बाप लाचार है । उसे अब योगी और मोदी जैसे दयालु नेताओं के सहायता की दरकार है। बेबस बाप अपनी लाचार बेटे को देखकर खून के आंसू रोने को विवश है।
परिवार की आर्थिक स्थिति सुधारने के लिए युवा बेटा पिता की अरमानों को पूरा करने के लिए घर, जिला और प्रदेश छोड़कर सूरत चला गया। कभी सड़क पर फर्राटे भरने वाला छानबे विकासखंड के डंगहर गांव निवासी शिवमणि तिवारी का पुत्र ओमप्रकाश तिवारी अभी दुनिया को कायदे से समझ भी नहीं पाया था कि वह सड़क हादसे का शिकार बन गया। ट्रक चलाते समय सूरत में सामने से आई दूसरी ट्रक ने ऐसा धक्का मारा की उसकी दुनिया ही सिकुड़ गयी। हादसे में ओमप्रकाश गंभीर रूप से घायल हो गया। उसके दोनों पैर खराब हो गये। अंदरूनी चोट व घायल अवस्था में उसका इलाज सूरत में कराया गया। उसकी हालत में सुधार न होने पर परिजनों ने उसका इलाहाबाद में इलाज कराया। लाखों रुपए खर्च करने पर भी कोई खास राहत न मिलने पर वाराणसी के एक प्राइवेट अस्पताल में इलाज कराया। § Read_More....

Read More »