Home » मुख्य समाचार » जिलाधिकारी ने विकास भवन का औचक निरीक्षण किया

जिलाधिकारी ने विकास भवन का औचक निरीक्षण किया

कानपुर नगर, जन सामना ब्यूरो। कार्यालय साफ रहे सभी कर्मी समय से कार्यालय आये 10ः30 बजे उपस्थिति रजिस्टर सीन हो जाये, जो भी कर्मी देरी से आये उसकी जवाब देही सुनिश्चित की जाये। योजनाओ का लाभ लाभार्थियों को समय से दिया जाये। अधिकारी/कर्मी आने वाले लाभार्थियों से सन्तोष जनक उत्तर दे।
उक्त निर्देश आज जिलाधिकारी विजय विश्वास पन्त ने विकास भवन का औचक निरिक्षण करते हुए उपस्थित अधिकारियों को दिया। सबसे पहले पशु चिकित्सा अधिकारी के कक्ष में पहुंचे उन्होंने उपस्थित रजिस्टर देखा जिसमे रश्मि शुक्ला के बिना सूचना के कार्यालय नहीं आने के विषय में जानकारी की तो पशु चिकित्सा अधिकारी ने बताया कि उक्त कर्मी का स्पष्टीकरण मांगने के निर्देश दिये। जिलाधिकारी ने जिला विकास अधिकारी को निर्देश करते हुए कहा कि सभी कर्मियों कार्य विभाजन उपलब्ध करा दिया जाये ताकि निरीक्षण के दौरान उनके द्वारा किये जाने वाले कार्यों की जानकारी हो सके। उन्होंने चिकित्सा क्षतिपूर्ति रजिस्टर देखा उसके विषय में जानकारी की तो बताया गया कि इस वर्ष केवल 2 कर्मी को चिकित्सा हेतु धनराशि दी गयी है। उन्होंने कार्यालय में पान की पीक देख नाराजगी व्यक्त की और उसको सफाई कराने के निर्देश दिये।
उन्होंने डूडा कार्यालय पहुंच कर प्रधानमंत्री आवास योजना के विषय में होने वाली समस्या की विस्तरित जानकारी की। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री आवास योजना में किसी भी लाभार्थी के साथ अन्याय नहीं होने दिया जायेगा। एक-एक पात्र व्यक्ति को योजना से लाभान्वित किया जायेगा। इस कार्य में लापरवाही बर्दाश्त नहीं की जायेगी जो भी कर्मी लापरवाही करते मिला तो उसकी जिम्मेदारी तय करते हुए कार्यवाही की जायेगी। जिलाधिकारी ने सिटी मिशन मैनेजर से डाटा फीडिंग से होने वाली समस्या के विषय में जानकारी की तो मैनेजर ने बताया कि बैंक द्वारा समस्या आती है इस पर जिलाधिकारी ने प्रधानमंत्री आवास योजना के लाभयार्थी तारा देवी पति फूल चन्द्र से बात की तो लाभार्थी ने बताया बड़ौदा उत्तर प्रदेश ग्रामीण बैंक शाखा कल्यानपुर द्वारा समस्या आ रही है। उन्होंने लीड बैंक मैनेजर को समस्त बैंक समस्याओ को दूर कराने के निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि जितनी भी लाभकारी योजनाएं संचालित की जा रही है उसमे किसी भी प्रकार की हिलाहवाली नहीं होनी चाहिए। पात्रों को उसका लाभ पहुंचे इसके लिए पारदर्शी तरीके से योजनाआंे का लाभ उनको मिले इस बात का विशेष ध्यान रहे, एक भी शिकायत मिलने पर सम्बन्धित पर कार्यवाही की जायेगी।