Sunday, November 18, 2018
Home » मुख्य समाचार » जनपद को खुले में शौचमुक्त ओडीएफ किये जाने का लक्ष्य 15 सितंबर तक

जनपद को खुले में शौचमुक्त ओडीएफ किये जाने का लक्ष्य 15 सितंबर तक

डीएम कलेक्ट्रेट सभाकक्ष में स्वच्छ भारत मिशन ग्रामीण की बैठक करते हुए

अधिकारी, कर्मचारी लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए अपने दायित्वों का निर्वहन पूर्ण मनोयोग मिशन मोड में करें: राकेश
कानपुर देहात, जन सामना ब्यूरो। जिलाधिकारी राकेश कुमार सिंह ने कलेक्ट्रेट सभाकक्ष में स्वच्छ भारत मिशन ग्रामीण की बैठक की अध्यक्षता करते हुए जनपद को ओडीएफ बनाये जाने के सम्बन्ध में अधिकारियों को निर्देश देते हुए कहा कि जिन कर्मचारियों की ओडीएफ संबंधी कार्यो में जनपदस्तरीय नोडल अधिकारियों के रूप में ड्यूटी लगी है वे आवंटित विकास खंडों के अन्तर्गत आने वाली सभी ग्राम पंचायतों को 15 सितंबर तक ओडीएफ कराये जाने के लिए पूर्णरूप से उत्तरदायी होगे। विकास खण्डस्तर, न्याय पंचायत, ग्राम पंचायत स्तर पर लगाये गये ब्लाक सेक्टर अधिकारी, न्याय सेक्टर अधिकारियों के निरंतर सम्पर्क में रहे और उनके कार्यो पर दृष्टि डालते रहे साथ ही उनके कार्य में आने वाली किसी भी प्रकार की दिक्कत को दूर करेंगे। नोडल अधिकारी इस महत्वपूर्ण कार्य में हो रही प्रगति से जिलाधिकारी कार्यालय को भी अवगत कराते रहेगे। समय समय पर विकास खण्ड व रेण्डम तरीके से कुछ ग्राम पंचायतों का निरीक्षण भी नोडल अधिकारी द्वारा किया जाये।
जिलाधिकारी राकेश कुमार सिंह ने अधिकारियों को निर्देश देते हुए कहा कि स्वच्छ भारत मिशन ग्रामीण प्रदेश के मुख्यमंत्री जी के प्राथमिकता वाले बिन्दुओं में से महत्वपूर्ण बिन्दु है। जिसमें जनपद को 15 सितंबर तक खुले में शौच मुक्त ओडीएफ किये जाने का लक्ष्य रखा गया है। इस लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए अधिकारी/कर्मचारी अपने दायित्वों का निर्वहन पूर्णमनोयोग से मिशन मोड में किया जाये। किसी भी प्रकार की लापरवाही के लिए संबंधित का उत्तरदायी निर्धारित करते हुए कठोर कार्यवाही भी की जायेगी। जिसके लिए अधिकारी स्वयं उत्तरदायी होगा। जिलाधिकारी ने कहा कि ग्राम पंचायत स्तर पर नियुक्त अधिकारी/कर्मचारी तथा न्याय पंचायत स्तर पर सेक्टर अधिकारियों, विकास खण्ड स्तर पर सेक्टर अधिकारियों व जनपदस्तरीय नोडल अधिकारियों के दायित्वों का निर्धारण कर दिया गया है। अतः अधिकारी अपने कर्तव्यों में खरा उतरे। उन्होंने कहा कि ओफीएफ कराये जाने में अधिकारी कर्मचारी अपना विशिष्ट योगदान देते हुए लक्ष्य की प्राप्ति करेंगे तथा वे अपना व्वाटशएप् ग्रुप बनाकर सूचनाओं का आदान प्रदान सुविधा के लिए करे। प्रत्येक दिवस शौचालय निर्माण की रिपोर्ट न्याय पंचायत स्तर पर लगे सेक्टर अधिकारियों को दे। ग्राम में फिलेक्सी बोर्ड लगवाने के साथ ही परिवार के मुखिया का नाम जिनके घर में शौचालय बन रहा है। उन्होंने कहा कि अधिकारी जिन घरों में शौचालय नही है वहां युद्धस्तर पर शौचालय बनवायें। साथ ही उसका उपयोग भी कराना सुनिश्चित करें। इस मौके पर एडीएम वित्त एवं राजस्व विद्याशंकर सिंह, एडीएम न्यायिक राजेन्द्र सिंह सेंगर, डीपीआरओ अजय कुमार श्रीवास्तव, जिला कार्यक्रम अधिकारी राकेश यादव आदि सभी जनपदस्तरीय अधिकारी उपस्थित रहे।