Saturday, November 17, 2018
Home » मुख्य समाचार » पांचवे दिन भी लेखपालों का कार्य बहिष्कार

पांचवे दिन भी लेखपालों का कार्य बहिष्कार

तहसील परिसर में बैठे लेखपाल।

फिरोजाबाद, एस. के. चित्तौड़ी। शिकोहाबाद में सरकार का एम्सा लागू करने के बाद चुनौती देते हुये लेखपालों का धरना जारी है। आज भी उत्तर प्रदेश लेखपाल संघ तहसील शिकोहाबाद के जिलाध्यक्ष अशोक कुमार यादव की अध्यक्षता में पाॅचवें दिन भी सभी लेखपाल तहसीलदार कार्यालय के समक्ष धरने पर बैठ रहे। लेखपालों ने काली पट्टी बांध कर कार्य बहिष्कार किया और प्रदेश सरकार के खिलाफ नारेबाजी की। चेतावनी दी अगर उनकी मांगें नहीं मानी गईं तो आंदोलन तेज किया जाएगा।
शनिवार को उत्तर प्रदेश संघ की लंबित आठ सूत्री मांगों को लेकर प्रांतीय कार्यकारिणी के आह्वान पर पाॅचवे दिन शनिवार को भी लेखपालों का धरना जारी रहा। वक्ताओं ने प्रदेश सरकार से लेखपालों की आठ सूत्री मांगें लेखपाल की शैक्षिक अर्हता स्नातक करने व पदनाम राजस्व उपनिरीक्षक करने तथा प्रारंभिक वेतनमान ग्रेड पे २८०० करने की मांग की। इसके साथ ही एसीपी विसंगति को दूर किया जाये। लैपटाप व स्मार्ट फोन उपलब्ध कराये जायें। पुरानी पेंशन व्यवस्था का लाभ प्रदान किया जाए। संचालन अवनेन्द्र प्रताप सिंह ने किया। वहीं लेखपालों के कार्यवहिष्कार से छात्र-छात्राओं को काफी परेशानियों का सामना करना पड रहा है क्योकि वह अपने जाति, आय व अन्य प्रमाण पत्र बनवाने को मजबूर है। वक्ताओं में विनय कुमार, रामकुमार, रफीउद्दीन, विजेन्द्र सिंह सोनी, राजेन्द्र पाल, धर्मवीर सिंह , शरद दुवे, आशीष कुमार, रूस्तम सिंह, ब्रजेश कुमार, सीमा, कल्पना, रीवेश, रामवीर, विवके, अनुज कुमार ने भाषण में कहा कि संवर्ग की लंबित मांगों के संबंध में शासन द्वारा शासनादेश, नियमावली में संशोधन का आदेश एवं अन्य आवश्यक संसाधन उपलब्ध नहीं कराये जाते हैं, तब तक प्रांतीय कार्यकारिणी द्वारा कार्य बहिष्कार किया जाता रहेगा।