Home » मुख्य समाचार » सफाई कर्मचारी दिवस मनाया गया

सफाई कर्मचारी दिवस मनाया गया

कानपुर, जन सामना ब्यूरो। जरीब चौकी द्वारिकापुरी बाजार में अम्बेडकर सामाजिक क्रान्ति मंच के द्रारा सफाई कर्मचारी दिवस के अवसर पर विचार गोष्ठी व सम्मान समारोह का आयोजन किया गया। सफाई कर्मचारी दिवस पर सफाई कर्मचारी आन्दोलनों में शहीद हुए व संघर्षरत रहे कर्मचारी बुजुर्गों को चिन्ना चौधरी, पक्कू चौधरी, बाबू लल्लूराम जी, लक्ष्मणदास, बाबू भगवानदीन (संविधान सभा के सदस्य मास्टर तुलसीराम वाल्मीक) मकरन्द लाल भारती, अनन्तराम सेन, शिवलाल वाल्मीकि (राज्य सभा सदस्य मुल्लूराम हजारिया) कामरेड नागेश्वर वाल्मीकि आदि महापुरुषों को याद कर श्रद्धान्जलि दी गयी। संस्था के अध्यक्ष हरीशंकर सेन ने बताया कि जुलाई 1957 दिल्ली में सफाई कर्मचारी की व्यापक हड़ताल हुयी। जिसमे तत्कालीन सरकार कर्मचारियों की जायज मांगों को मानने को राजी नहीं हुयी और दमन का रास्ता अपनाते हुये हड़ताल कर रहे कर्मचारियों की कालोनी में घुसकर पुलिस ने लाठी चार्ज व गोलियाँ चलाई जिसमे अनेकों कर्मचारी बुरी तरह घायल हुए व एक नौजवान साथी भूप सिंह वाल्मीकि शहीद हो गये उसे दनु से सफाई कर्मचारी दिवस मनाया जाने लगा। इस दिन हमारे लोग सफाई कर्मचारियों की जायज मांगो के लिए आन्दोलनों में शहीद हुये शहीदों व नालो एंव सीवर नालो में काम करते हुये शहीद हुये शहीदों को याद करते हुये श्रद्धान्जली देते है। संस्था के सदस्य चमन खन्ना ने कहा कि हमारे सफाई कर्मचारी भाई काम करते हुये शहीद होते है। परन्तु सरकार आज तक किसी भी कर्मचारी को शहीद का दर्जा नहीं देती जबकि कर्मचारी सैनिकों की तरह समाज को गन्दगी बैक्टीरिया बीमारी इत्यादि से बचाते हुये अपने काम को अंजाम दते हुये शहीद हो जाते है पर सरकार उन्हें शहीद का दर्जा नहीं देती है। यदि सफाई कर्मचारी सफाई का कार्य बन्द कर दे तो चारों ओर गंदगी फैलेगी और बैक्टरियां बीमारी से त्राहि-त्राहि मच जायेगी। कार्यक्रम के मौके पर राजेन्द्र भारती, रवि त्रेहन, शनि खन्ना, विरेन्द्र बक्शी, राजेश समुन्द्रे, जितेन्द्र वाल्मीकि, जितेन्द्र समुन्द्रे, नवीन प्रकाश, आशीष कुमार, राज किशोर, विनयी सेन, सर्वेश मलखान, राजू गायक, इन्दर खन्ना, मो० खालीद, एडवोकेट कमल कुमार, एडवोकेट अजय बक्शी, एडवोकेट नरेश कुमार, डाॅ० विनोद कुमार, डाॅ० सचिन कुमार, ई0 राजदीप सिंह, अमित कुमार, रवि सिंहाडिया, अजीत खोटे, सुनील आदि मौजूद रहे।