Home » मुख्य समाचार » दलित उत्पीड़न मामले में समझौता न करने पर झल्लाए दबंगों ने जान से मारने की धमकी दी

दलित उत्पीड़न मामले में समझौता न करने पर झल्लाए दबंगों ने जान से मारने की धमकी दी

शिवली कोतवाली मैं रिपोर्ट दर्ज कराने पहुंची पीड़ित महिला सफाईकर्मी के साथ मौजूद अन्य कर्मचारी।

शिवली कानपुर देहात, जितेन्द्र कुमार। शिवली में करीब सात माह पूर्व महिला सफाई कर्मी के साथ की गई मारपीट में करवाए गए दलित उत्पीड़न के मामले में समझौता न करने पर झल्लाए दबंगों ने नगर पंचायत शिवली में कार्यरत महिला सफाई कर्मी के साथ शुक्रवार सुबह सफाई करते समय छेड़खानी कर गाली गलौज एवं मारपीट करते हुए जान से मारने की धमकी दी। पीड़ित महिला सफाईकर्मी ने एक अज्ञात एवं दो महिलाओं समेत पांच लोगों के खिलाफ छेड़छाड़ मारपीट जान से मारने की धमकी देने तथा दलित उत्पीड़न की रिपोर्ट दर्ज करवाई है। महिला सफाई कर्मी के साथ बार बार मारपीट कर प्रताड़ित किए जाने से भड़के नगर पंचायत के अन्य कर्मचारियों ने नामजद आरोपियों की गिरफ्तारी की मांग करते हुए काम बंद करने का ऐलान कर दिया है कर्मचारियों द्वारा की गई हड़ताल से नगर पंचायत के सभी काम ठप हो गए हैं।
बताते चलें कि इसी वर्ष 16 जनवरी को शिवली नगर पंचायत में कार्यरत एक महिला सफाईकर्मी देव नगर मोहल्ला निवासी हरिओम शुक्ला के दरवाजे पर नाली से चटिया हटाकर कूड़ा साफ कर रही थी जिस पर हरिओम शुक्ला व उसके घरवालों ने महिला सफाई कर्मी के साथ मारपीट कर दी थी उक्त मामले में नगर पंचायत के अधिशासी अधिकारी ने हरिओम शुक्ला, अशोक शुक्ला, प्रियंका शुक्ला एवं उषा शुक्ला के खिलाफ गाली गलौज कर मारपीट करने जान से मारने की धमकी देने सरकारी काम में बाधा डालने एवं दलित उत्पीड़न की रिपोर्ट दर्ज करवाई थी अधिशासी अधिकारी द्वारा दर्ज कराई गई रिपोर्ट से उक्त लोग महिला सफाई कर्मी से काफी रंजिश मानने लगे थे यह लोग महिला सफाईकर्मी पर जबरन दबाव डालकर समझौता करने का प्रयास करने में लगे हुए थे। महिला सफाई कर्मी ने शिवली कोतवाली में रिपोर्ट दर्ज कराते हुए पुलिस को बताया कि पिछले दिनों ही हुई मारपीट के मामले में हरिओम शुक्ला आदि समझौता करने के लिए दबाव बना रहे थे। जब वह नहीं मानी तो उसे अक्सर गाली गलौज कर जान से मारने की धमकी देते थे उक्त मामले में बीते 8 अगस्त को उसको पुलिस अधीक्षक कार्यालय में बयान के लिए बुलाया गया था। जहां पर हरिओम शुक्ला के खिलाफ उसने बयान दिए थे इस बात से वह लोग और रंजिश मानने लगे। शुक्रवार सुबह वह हरिओम शुक्ला के दरवाजे के पास सफाई कर रही थी तभी हरिओम शुक्ला अपने घर से बाहर निकला और जातिसूचक शब्दों का प्रयोग करते हुए गाली गलौज करने लगा जब उसने विरोध किया तो उसने बुरी नियत से चोटी पकड़कर जमीन पर पटक दिया और उसके साथ छेड़खानी करने लगा उसी समय हरिओम शुक्ला के पिता अशोक शुक्ला, बहन प्रियंका शुक्ला, मां उषा शुक्ला एवं एक अज्ञात व्यक्ति भी घर से बाहर निकल आए और उसको घर के अंदर खींच कर उसके साथ लात-घूसों से मारपीट की चीख पुकार सुनकर मोहल्ले के लोग जब बचाने दौड़े तो वह लोग जान से मारने की धमकी देते हुए भाग निकले। पीड़ित महिला सफाईकर्मी ने यह भी बताया कि हरिओम शुक्ला ने कई बार उसके घर जाकर भी गाली गलौज कर जान से मारने की धमकी दी।
घटना के बाबत कोतवाल महेंद्र प्रताप सिंह ने बताया कि पीड़ित महिला सफाई कर्मी की तहरीर पर आरोपी हरिओम शुक्ला पुत्र अशोक शुक्ला प्रियंका शुक्ला पुत्री अशोक शुक्ला, उषा शुक्ला पत्नी अशोक शुक्ला, अशोक शुक्ला पुत्र राजन लाल शुक्ला एवं एक अज्ञात व्यक्ति के खिलाफ धारा 354, 323, 504, 506, 147 एवं दलित उत्पीड़न के तहत रिपोर्ट दर्ज कर जांच शुरू कर दी गई है। वहीं नगर पंचायत के चेयरमैन अवधेश कुमार उर्फ मुन्नू शुक्ला ने कहा की कुछ तथाकथित राजनीतिक प्रतिद्वंदियों के इशारे पर नगर के विकास कार्यों में बाधा डालने का प्रयास किया जा रहा है। उन्हीं लोगों की शह पर उक्त दबंग लोग आए दिन नगर पंचायत के सफाई कर्मियों एवं अन्य कर्मचारियों के साथ गाली गलौज कर अभद्रता करते हैं। लेकिन नगर की जनता सब जान चुकी है कि क्या गलत है क्या सही है।