Friday, November 16, 2018
Breaking News
Home » मुख्य समाचार » बमरौली में शवदाहगृह ना बनने से जनता में भारी आक्रोश

बमरौली में शवदाहगृह ना बनने से जनता में भारी आक्रोश

इलाहाबाद, मिथलेश कुमार वर्मा। ग्राम पंचायत बमरौली बाकराबाद तहसील सदर ब्लाक कौड़ीहार-2 जिला इलाहाबाद में लोगों की काफी दिनों से ये माँग उठ रही है कि बाकराबाद बमरौली में एक शवदाहगृह होना बहुत आवश्यक है। जिससे कई गाँव के लोगों को सुविधा प्रदान हो सके। सामाजिक कार्यकर्ता महेन्द्र सिंह पटेल, अशोक कुमार, सुरेश कुश्वाहा, श्याम सूरत आजमी का कहना है कि पूर्व सरकार से लेकर वर्तमान सरकार के मंत्रियों एवं मुख्यमंत्री जी तक को कई अनुरोध पत्र दे चुके है एवं स्वयं मिलकर भी अवगत कराया परन्तु आज तक आश्वाशन के सिवा कुछ नहीं मिला। महेन्द्र सिंह पटेल का कहना है कि ग्राम सभा की आबादी लगभग तीस हजार के आसपास है। जिसमे अधिक्तर अनुसूचित जाति के लोग रहते है। जिनका अवशत लगभग साठ (60) प्रतिशत है शेष जाति में पिछड़ी एवं अन्य है। यहां पड़ोसी गांव भगवतपुर, बरवां, लाहुर, सरवां, मंदरी, मंदर, चिरला, खटांगी, कादिलपुर, बिलासपुर एवं अन्य गांवो के लोग मृत व्यक्तियों को दफनाने के लिए आते है। किन्तु गंगा किनारे भूमि उपलब्ध ना होने के कारण रेत (बालू) में शव को दफना देतें है तथा बरसात के मौसम में बाढ़ के पानी से रेत (बालू) डूब जाता है। जिससे शव को दफनाने में बहुत बड़ी मुसीबत उतपन्न हो जाती है, इस संबंध में स्वास्थय मंत्री जी को दिनांक 12/06/17 को ज्ञापन सौंपा गया दिनांक 04/07/17 को तहसील दिवस सदर इलाहाबाद दिनांक 03/10/17 को पुनः तहसील दिवस सदर इलाहाबाद को आवेदन पत्र के माध्यम से अवगत कराया जिसको क्षेत्रीय लेखपाल द्वारा अपनी आख्या के माध्यम से रिपोर्ट दी गई कि चकबन्दी विभाग द्वारा इस संबंध में कोई भूमि सुरक्षित नहीं किया गया है। जिसकी आख्या रिपोर्ट दिनांक 13/10/17 को दी गई। सामाजिक कार्यकर्ता ने क्षेत्रीय लेखपाल से इस संबंध में संपर्क किया एवं अवगत कराया गया कि अराजी संख्या 361 रक्वा 0.217 हेक्टेयर लगभग उन्नीस बिस्वा जमीन ग्राम समाज की है। जो गंगा किनारे उपलब्ध है एवं शवदाहगृह कार्य हेतु प्रयाप्त है। लोगों का कहना है कि अगर यह कार्य पूर्ण हो जाता है तो परेशानियों से काफी हद तक निजात मिल जाएगी।