Wednesday, October 17, 2018
Home » मुख्य समाचार » तालाब जीर्णोद्वार कार्यों को अधिकारी गंभीरता से ले समयवद्ध तरीके से करें पूरा: डीएम

तालाब जीर्णोद्वार कार्यों को अधिकारी गंभीरता से ले समयवद्ध तरीके से करें पूरा: डीएम

डीएम कलेक्ट्रेट सभाकक्ष में मनरेगा के तहत तालाब जीर्णोद्वार की प्रगति समीक्षा बैठक करते हुए

डीएम ने मनरेगा के तहत 125 तालाब जीर्णोद्वार की प्रगति समीक्षा बैठक में खण्ड विकास अधिकारियों को अवशेष तालाबों के जीर्णोद्वार का कार्य 7 मई से प्रत्येक दशा में शुरू करने के दिये निर्देश
कानपुर देहात, जन सामना ब्यूरो। जिलाधिकारी राकेश कुमार सिंह ने कलेक्ट्रेट सभाकक्ष में अधिकारियों को निर्देश देते हुए कहा कि मनरेगा संबंधी कार्यो को युद्धस्तर पर पूरा करें। बैठक में महात्मा गांधी नरेगा के तहत 125 तालाब जीर्णोद्वार की प्रगति समीक्षा की बैठक करते हुए खण्ड विकास अधिकारियों सहित अधिकारियों को निर्देश दिये कि किसी भी योजना का सफल कार्यक्रम करना अधिकारी का कार्य अतः मनरेगा के तहत तालाबों का जीर्णोद्वार कार्य अभियान के रूप में शीघ्रता शीघ्र करें। जिन तालाबों का कार्य अभी शुरू नही हुआ है आकलन तैयार कर 7 मई तक अवश्य करा ले। उन्होंने कहा कि जिन तालाबों का आकंलन रिपोर्ट तकनीकी सहायक तैयार नही है उसे युद्धस्तर पर तैयार करा ले। उन्होंने कहा कि सभी तालाब विवाद रहित और खाली भी है यदि किसी तहसील ने गलत सूचना दे दी है उसको तत्काल ठीक करा ले। उन्होंने कहा कि यदि तालाबों के खुदाई में कहीं दिक्कत आ रही हो तो मिट्टी में पानी आदि डालकर मुलायम कर तालाबों के जीर्णोद्वार का कार्य युद्धस्तर पर पूरा करें। किसी भी प्रकार की कमी हो तो उसे समय रहते दुरस्त कर ले। तालाबों के जीर्णोद्वार का कार्य समयवद्ध तरीके से पूरा होना है जिसमें किसी भी दशा में शिथिलता या लापरवाही बर्दाश्त नही होगी। जहां तालाब के जीर्णोद्वार का कार्य शुरू हो गया है उसकी फोटो तत्काल अपलोड कराना भी सुनिश्चित करें। समीक्षा बैठक में जिलाधिकारी राकेश कुमार सिंह ने समस्त बीडीओ, अवर अभियन्ता आदि को निर्देश दिये कि जो तालाबों के जीर्णाेद्धार श्रृखला के कार्यो को युद्धस्तर पर पूरा करने के निर्देश दिये। उन्होंने अमरौधा, संदलपुर, अकबरपुर, डेरापुर, मलासा, मैथा, रसूलाबाद, झींझक आदि के खण्ड विकास अधिकारियों को चेताते हुए कहा कि उनके यहां जिन गांवों में अभी अवशेष तालाबों का जीर्णोद्धार कार्य शुरू नही हुआ है वे प्रत्येक दशा में 7 मई तक जीर्णोद्वार का कार्य कराना शुरू कर दे। जलालपुर नागिन, सीधामऊ, सिरूआटप्पा, धर्मपुर, हिसावा, खासपुर, मडौली, सरवनखेडा, अमरौधा आदि विकास खण्डों के तालाबों पर विस्तार से चर्चा भी हुयी। बैठक में सूखे के समान स्थिति के दृष्टिगत समस्त ग्राम पंचायतों में मनरेगा योजना अन्तर्गत एक कार्य अनिवार्य रूप से कराये जाने, निजी खेत की मेड पर ‘‘मुख्यमंत्री‘‘ कृषक वृक्ष धन योजना, सामुदायिक वानकीय योजना तथा मनरेगा योजना अन्तर्गत चारागाह विकास तथा पशु आश्रय स्थल की भी समीक्षा सहित मनरेगा के विकास कार्यक्रमों की प्रगति की समीक्षा की गयी। बैठक में डीएफओ ललित गिरी, मुख्य विकास अधिकारी केदारनाथ सिंह, एडीएम शिवशंकर गुप्ता, विद्याशंकर सिंह, एडी सूचना प्रमोद कुमार,डीसी मनरेगा पीएन दीक्षित सहित सभी बीडीओ व तकनीकी सहायक आदि उपस्थित रहे।