Friday, February 22, 2019
Home » विविधा » आपसी झगड़ा खत्म करने के लिए हार मान लेना अच्छा है …

आपसी झगड़ा खत्म करने के लिए हार मान लेना अच्छा है …

संयुक्त राष्ट्र संघ द्वारा ‘‘अन्तर्राष्ट्रीय शान्ति दूत से सम्मानित दादी डाॅ0 प्रकाशमणि जी का 11वाँ स्मृति दिवस 25 अगस्त को
विश्व सद्भावना दिवस के रूप में मनाया जायेगा
प्रजापिता ब्रह्माकुमारी ईष्वरीय विष्व विद्यालय की पूर्व मुख्य प्रशासिका एवं संयुक्त राश्ट्र संघ द्वारा ‘‘अन्तर्राष्ट्रीय शान्ति दूत से सम्मानित दादी डाॅ0 प्रकाशमणि जी का 11वाँ स्मृति दिवस 25 अगस्त को संगठन के अलीगढ रोड स्थित, आनन्दपुरी कालोनी के सहज राजयोग प्रशिक्षण केन्द्र पर मनाया जायेगा। यह जानकारी केन्द्र प्रभारी ब्रह्माकुमारी शांता बहिन ने दी।
दादी डाॅ0 प्रकाषमणी जी के व्यक्तित्व की जानकारी देते हुए उन्होंने बताया कि स्वभाव से सरल दादीजी ने निमित्त भाव , निर्मल वाणी और निर्मानभाव से ही संसार को परमपिता परमात्मा षिव का संदेष दिया। वे कहती थीं कि संसार के आपसी झगडों का कारण ही अहंकार है। परिवार में रहते हुए यदि एक व्यक्ति अपनी हार मान ले तो झगडा खत्म हो सकता है। जीवन मूल्य एवं अध्यात्म की उनकी सेवाओं को मोहनलाल सुखाड़िया विश्वविद्यालय ने डाॅक्ट्रेट की उपाधि से सम्मानित किया। संगठन को 5 देषों से संसार के 136 देषों तक पहुँचाने वाली दादी डाॅ0 प्रकाशमणि जी का स्मृति दिवस 25 अगस्त को ब्रह्माकुमारीज संगठन द्वारा सारे संसार में ‘‘विश्व सदभावना दिवस’’ के रूप में मनाया जायेगा। आनन्दपुरी केन्द्र पर प्रातःकाल उनके व्यक्तित्व पर प्रकाश डाला जायेगा तथा शृद्धासुमन अर्पित किये जायेंगे।