Monday, October 15, 2018
Breaking News
Home » मुख्य समाचार » अंतरराष्ट्रीय मजदूर दिवसः मजदूरों का शोषण, मानवता का उपहास- रेल सेवक संघ

अंतरराष्ट्रीय मजदूर दिवसः मजदूरों का शोषण, मानवता का उपहास- रेल सेवक संघ

अंतरराष्ट्रीय मजदूर दिवस- 01 मई को रेल सेवक संघ और अन्य मजदूर संगठन श्रम कानूनों को समाप्त करने का
करेंगे विरोध
लखनऊः जन सामना ब्यूरो। अंतरराष्ट्रीय मजदूर दिवस पर कल 01 मई को सुधार के नाम पर श्रम कानूनों को समाप्त कर श्रमिकों को बंधुआ मजदूर बनाने का विरोध करेंगे।
रेल सेवक संघ के महामंत्री- सच्चिदा नन्द श्रीवास्तव ने उत्तर रेलवे, उत्तर मध्य रेलवे और पूर्वोत्तर रेलवे कि सभी शाखाओं और मंडल को निर्देश भेजकर कहा है कि, वे अपने कार्य स्थल पर लंच में श्रम सुधार के नाम पर सरकार द्वारा समाप्त किये जा रहे श्रम कानूनों का विरोध करें, जिसमें सरकार द्वारा फिक्स्ड टर्म लेबर कॉन्ट्रैक्ट और स्थायित्व कानून को समाप्त किया जाना प्रमुख है, जिसमें मजदूरों के स्थाई होने और मुआवजा का हक मजदूरों से छीन लिया गया है।
रेल कर्मचारी अपने-अपने कार्य-स्थलों पर सभा व जुलूस निकाल कर सरकार का विरोध करेंगे और मांग करेंगे कि, स्थाईत्व कानून और अन्य पूर्व के श्रम कानूनों को बहाल किया जाय तथा मजदूर विरोधी कानून बनाना बंद किया जाये।