Home » मुख्य समाचार » दलित समाज 10 को निकालेगा शांति मार्च

दलित समाज 10 को निकालेगा शांति मार्च

हाथरसः जन सामना संवाददाता। एस.सी.एस.टी. एक्ट को निष्प्रभावी किये जाने के विरोध में गत 2 अप्रैल को आयोजित विरोध प्रदर्शन में हुए शहीदों की आत्म शांति को मौन जुलूस निकाला जायेगा। आगामी 10 मार्च को भारत बंद का ऐलान करने वालों को हथियारों सहित विरोध प्रदर्शन की परमीशन न दी जाये तथा दलित, पिछडे व अल्प संख्यकों के परिवार व प्रतिष्ठानों की सुरक्षा पुलिस प्रशासन द्वारा की जाये। यह सब आरएसएस व भाजपा के इशारे पर हो रहा है।
उक्त आरोप लगाते हुए आज नगला अलगर्जी में समाजसेवी डा. एस.पी. सिंह के आवास पर आयोजित प्रेसवार्ता में दलित समाज के नेताओं लल्लन बाबू एड., दिनेश देशमुख एड., के.सी. निराला एड., ब्रजमोहन राही एड., राजपाल सिंह पूनिया एड. व विजय सिंह प्रेमी ने बताया कि 10 अप्रैल को एस.सी.एस.टी. एक्ट को निष्प्रभावी किये जाने के विरोध में हुए विरोध प्रदर्शन में हुए शहीदों की आत्म शन्ति के लिये शांतिपूर्वक मार्च आगरा रोड स्थित राधा स्वामी बगीची से शुरू होकर शहर के प्रमुख बाजारों से होकर अलीगढ रोड स्थित खंदारी गढी पार्क पर पहुंचकर सम्पन्न होगा और मौन धारण कर समाप्त किया जायेगा।
प्रेसवार्ता में उक्त दलित नेताओं ने कहा कि 10 अप्रैल को एससीएसटी एक्ट एवं दलित, पिछडों के आरक्षण के विरोध में किये जा रहे भारत बंद के दौरान शहर, कस्बों व कम आबादी वाले दलित, पिछडे व अल्प संख्यक के परिवारों व प्रतिष्ठानों की सुरक्षा पुलिस प्रशासन द्वारा की जाये तथा हथियार बंद प्रदर्शनकारियों पर रोक लगाई जाये। उन्होंने कहा कि उक्त प्रदर्शन के दौरान प्रदर्शनकारियों द्वारा किसी भी दलित पिछडे व अल्पसंख्यक समुदाय के लोगों के साथ कोई भी अभद्रता, आगजनी, जनहानि, तोडफोड या मारपीट जैसी घटनायें घटित की जाती हैं तो इसकी जिम्मेदारी शासन प्रशासन की होगी।
प्रेसवार्ता में दलित नेताओं ने कहा कि सोशल मीडिया के माध्यम से महापुरूषों के खिलाफ अभद्र बयानबाजी व हरकतों के खिलाफ सख्त कानूनी कार्यवाही की जाये तथा देश भर में बाबा साहब डा. भीमराव अम्बेडकर की तोडी जा रही अम्बेडकर प्रतिमाओं की सुरक्षा की जाये। प्रेसवार्ता में पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष वीरेन्द्र सिंह कुशवाहा, मुस्लिम नेता शौबी कुरैशी, डा. आर.सी. गोला व भगवान सिंह कोरी ने कहा कि 10 मार्च को निकाले जा रहे शांति मार्च में पूरी तरह से समर्थन करते हैं और पूर्ण सहयोग करेंगे।
प्रेसवार्ता में दलित नेता लल्लन बाबू एड. व राजपाल सिंह पूनिया ने कहा कि दलित पिछडों के आरक्षण को समाप्त नहीं होने देंगे। उन्होंने आरोप लगाते हुए कहा कि एससीएसटी तो बहाना है असली तो आरएसएस-बीजेसी का आरक्षण हटाना है। प्रेसवार्ता में देवेन्द्र सिंह राना, वीरी सिंह कर्दम, अगमप्रिय सत्ंसगी, विजयपाल सिंह पुष्कर, श्रीमती सुनीता सिंह, पंकज प्रेमाकर के अलावा दर्जनों लोग मौजूद थे।