Monday, September 24, 2018
Breaking News
Home » मुख्य समाचार » करकरेत्तर राजस्व वसूली को लक्ष्य के अनुरूप लाये प्रगति: डीएम

करकरेत्तर राजस्व वसूली को लक्ष्य के अनुरूप लाये प्रगति: डीएम

डीएम करकरेत्तर राजस्व वसूली की समीक्षा बैठक करते हुए

बैठक में अधिकारियों की कम उपस्थिति पर डीएम गंभीर, कार्यवाही के दिये निर्देश
कानपुर देहात, जन सामना ब्यूरो। जिलाधिकारी राकेश कुमार सिंह ने कलेक्टेªट सभाकक्ष में कर-करेत्तर राजस्व वसूली कार्यो की बैठक की अध्यक्षता करते हुए कहा कि लक्ष्य के अनुरूप कर-करेत्तर राजस्व वसूली के कार्यो मे प्रगति लाये। राजस्व वसूली में कैसे अधिक वृद्धि हो इसकी तैयार की गयी कार्ययोजना के अनुरूप कार्यवाही कर राजस्व वसूली में तेजी लाये जो लक्ष्य है उसकी पूर्ति अवश्य करे। उन्होंने बैठक में विभागों के अधिकारी कम पाये जाने पर एडीएम को निर्देश दिये कि वे बैठक में समस्त संबंधित विभागों के सभी अधिकारी उपस्थित हो अगर कोई भी अधिकारी बिना जानकारी दिये जाता है तो उसके विरूद्ध कार्यवाही की जाये। बैठक में वाणिज्य कर, मण्डी, परिवहन, आबकारी, मनोरंजन आदि विभागो की राजस्व वसूली में लक्ष्य के अनुरूप प्रगति लाने की जरूरत है। उन्होंने काटा बाट अधिकारी को निर्देश दिये कि बाजारों में जो लोग काटा बाट रखते है उनके बाट में मोहर लगी होनी चाहिए अगर निरीक्षण में बाट में मोहन न मिली तो कार्यवाही की जायेगी तथा बाटो में मोहर लगवाना सुनिश्चित करे। एसडीएम, तहसीलदार कार्यो मे सुधार लाए तथा प्रतिदिन अपना डेस बोर्ड भी देखे। बडी संख्या में सभी तहसीलों में आय, जाति, निवास के प्रकरणों का निस्तारण नही हुआ है स्कूल, कालेजों में एडमीशन शुरू है अतः आय, जाति, निवास के प्रमाण पत्रों का अभियान के रूप में निस्तारण कर प्रमाण पत्र तत्काल संबंधित को दे। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार आय, जाति, निवास प्रमाण पत्र के लंबित रखे जाने पर पूरी तरह से गंभीर है। डीएम ने चेताया कि यदि किसी भी तहसील में आय, जाति, निवास प्रमाण पत्र लंबित पाये गये तो संबंधित अधिकारी कार्यवाही के लिए तैयार रहे।
जिलाधिकारी राकेश कुमार सिंह ने आईजीआरएस के भी प्रकरण कई तहसीलों में एसडीएम, तहसीलदार, नायब तहसीलदार स्तर पर लंबित पाये जाने पर भी गंभीरता से लेते हुए समय अवधि के उपरान्त संदर्भाे के निस्तारण न होने पर चेतावनी देते हुए निर्देश दिये है कि वे आईजीआरएस संदर्भो का निस्तारण गुणवत्तायुक्त समयवद्ध तरीके से निस्तारण करें। उन्होंने कहा कि जो भी तहसील सम्पूर्ण समाधान दिवस में शिकायते आती है उनका निस्तारण गुणवत्तापूर्वक व सही ढंग से करें तथा आईजीआरएस के प्रकरणों को गंभीरता से ले तथा समयवद्ध तरीके से सही ढंग से निस्तारण करें। राजस्व ग्रामों के चिन्हांकन में मरम्मत या नये सीमांकन पत्थर को तत्काल लगाये। उन्होंने सेवा संबंधी मामलों में अधिनस्थों के प्रकरणों को किसी भी दशा में लंबित न किया जाये। उन्होंने जहां राजस्व वसूली आदि कार्यो मंे प्रगति लाने के लिए समय समय पर अमीन व लेखपालों के साथ समीक्षा बैठक करते रहे जो लेखपाल व अमीन सही कार्य कर रहे है उन्हें पुरस्कृत व प्रोत्साहित भी करते रहे साथ ही खराब कार्य करने वाले लेखपाल व अमीन को दंडित करने का भी कार्य करने के जहां निर्देश दिये है वहीं सभी तहसीलों के एसडीएम व तहसीलदारों से कहा कि अपनी तहसीलों के साफ सफाई, सौंदर्यीकरण, शौचालय का साफ सुथरा आदि रखे जाने के निर्देश दिये है। उन्होंने ये भी निर्देश दिये कि विभाग में कर्मचारियों के किसी भी प्रकार के प्रकरण लंबित न रहे कर्मचारियों को जो लाभ मिलते है उनको समय से मिले। गर्मी को देखते हुए इंडियामार्का हैंडपंप ठीक रहे यदि कही कोई खराब हो उसको तत्काल ठीक रखा जाये। जनपदस्तरीय ग्रामीण पेयजल नियन्त्रण कक्ष व खंड विकास स्तर पर नियंत्रण कक्षों का भी स्थापना करा दी गयी है। जिसे पूरी तरह से सक्रिय रखा जाये। गर्मी में जल ही जीवन है अतः पेयजल की आपूर्ति मे किसी भी प्रकार का व्यवधान न हो। गर्मी में भी ग्रामीण क्षेत्रों में पेयजल की उपलब्धता से प्रयास करे। बैठक में आईजीआरएस प्रकरणों, सम्पूर्ण समाधान दिवस आदि पर भी विस्तार से जानकारी दी गयी। डीएम ने कहा कि बरसात का समय है ईओ आदि अधिकारी छुट्टी न ले तथा जनपद में नाली आदि की साफ सफाई करा ले जिससे कि दिक्कत न हो। इस मौके पर एडीएम वित्त एवं राजस्व विद्याशंकर सिंह, एडीएम न्यायिक राजेन्द्र सिंह सेंगर, एसडीएम सदर परवेज अहमद, दीपाली कौशिक, विेजेता, तहसीलदार आदि जनपद स्तरीय अधिकारी उपस्थित थे।