Friday, September 21, 2018
Breaking News
Home » विविधा » “ वह अँधेरा क्या फिर दीप्त हो पाएगा “

“ वह अँधेरा क्या फिर दीप्त हो पाएगा “

kanchan-pathakपंछियों का बसेरा नियत काल तक
पिंजड़े का बखेड़ा नियत काल तक
कौन आया है रहने यहाँ पर सदा
चक्रजीवन जजीरा नियत काल तक
वक्त की करवटों पर पिघल जाएँगे
कल चमकते सितारे भी ढल जाएँगे
आज अट्टालिकाएं हैं जो तनकर खड़ी
खण्डहर में इमारत बदल जाएँगे
तब ये पूजन ये तर्पण पितरपक्ष से
ताप मरुथल का क्या सिक्त हो पाएगा !
बुझ गया जो अतृप्ति में जलकर दीया
वह अँधेरा क्या फिर दीप्त हो पाएगा !!आज कोई गया कल कोई जाएगा
काल का चक्र है सबको अजमायेगा
पर जो घर से तुम्हारे है रोकर गया
दाह में आह की लौट कर आएगा
जल चढ़ाकर हो भक्ति किसे दे रहे
पिंड तर्पण की मुक्ति किसे दे रहे
चैन जीतेजी जिसको न पल भर दिया
कर्म-कांडों की युक्ति उसे दे रहे
पार चौकट धुले आसमां को गया
तिल के दानों से क्या शान्ति मिल जाएगी
आस की लाश जीवन में ढोता रहा
उस मलिन मुख को क्या कान्ति मिल जाएगी
जल चढ़ाकर मरी शाख पर होगा क्या
प्यास प्राणों में क्या तृप्त हो पाएगा !
बुझ गया जो अतृप्ति में जलकर दीया
वह अँधेरा क्या फिर दीप्त हो पाएगा !!
– कंचन पाठक.
कवयित्री, लेखिका, मुम्बई।