Home » मुख्य समाचार » आंगनबाड़ी व आशा कार्यकत्रियों ने किया प्रर्दशन

आंगनबाड़ी व आशा कार्यकत्रियों ने किया प्रर्दशन

2016-09-24-8-sspjsअर्थी निकाल पुतला फूंका, 2 घण्टे जाम
हाथरस, नीरज चक्रपाणि। अपनी 24 सूत्रीय मांगों को लेकर करीब 20 दिन से भी अधिक समय से आन्दोलनरत आंगनबाडी कार्यकत्रियों व इनके साथ अपनी मांगों को लेकर आन्दोलन में सहभागिता कर रहीं आशा कार्यकत्रियों का भी धैर्य जबाव दे गया और तालाब चैराहा पर मानव श्रृंखला बनाकर सडक पर बैठकर जहां घण्टों जाम लगाया वहीं शासन-प्रशासन को जमकर कोसा और महिलाओं से अभद्रता पर एडीएम को मौके पर बुलाकर माफी मंगवाने को हायतौबा की। जाम-प्रदर्शन के दौरान अधिकारी व फोर्स मौन बनकर खडे रहे। एडीएम का पुतला भी फूंका गया।
अपनी 24 सूत्रीय मांगों में प्रमुख मांगे 18 हजार रूपये प्रतिमाह मानदेय, स्थायी रूप से सरकारी नौकरी देने, वार्षिक अवकाश, स्थानांतरण आदि को लेकर पिछले करीब 22 दिनों से लगातार धरना प्रदर्शन आदि आन्दोलन कर रहीं आंगनबाडी कार्यकत्रियों का धैर्य आज इस बात को लेकर जबाब दे गया जब कल धरनारत कार्यकत्रियों से एडीएम द्वारा अपशब्द कह दिये और हाथ में डण्डा भी उठा लिये जिससे महिलाओं के सम्मान व स्वाभिमान की बात बेमानी सी लगती है जबकि यही महिलायें कल सडकों पर अपने हकों के लिए संघर्ष कर रही थीं और उनके साथ जिम्मेदार अधिकारी के रवैये से मायूसी व निराशा दिखती है।
महिला आंगनबाडी कर्मचारी संघ की अध्यक्ष श्रीमती मीना कुमारी के नेतृत्व में आज एडीएम के व्यवहार को लेकर महिला आंगनबाडी कार्यकत्रियों ने तालाब चैराहा पर मानव श्रृंखला बनाकर जाम लगा दिया और जमकर प्रशासन व शासन के खिलाफ नारेबाजी तथा हायतौबा की। जाम करीब डेढ-2 घण्टे तक लगा और इस दौरान जहां चारो रोडों पर वाहनों की लाइनें लग गई वहीं गर्मी में स्कूली बच्चों की बसें व अन्य वाहनों के साथ मरीजों को लेकर जा रहीं एम्बूलेंस भी फंसी रहीं और लोग परेशान होते रहे जबकि मौके पर खडे एसडीएम सदर राकेश गुप्ता, सीओ सुधीर त्यागी, कोतवाली प्रभारी मनोज शर्मा के समझाने पर महिलायें नहीं मानीं।
आंगनबाडी कार्यकत्रियों के साथ आशा कार्यकत्रियों ने भी आन्दोलन में साथ देते हुए जमकर हायतौबा की और आक्रोशित महिलाओं ने एडीएम को बुलाकर माफी मंगवाने की मांग की। जिलाधिकारी के निर्देश पर आये सीडीओ जावेद अख्तर जैदी ने आकर महिलाओं को समझाया और कल की घटना पर भारी खेद प्रगट कर जाम खुलवाने को कहा जिस पर आंगनबाडी व आशा कार्यकत्रियों ने माना और सीडीओ ने सभी कार्यकत्रियों के साथ पुरानी कलेक्ट्रेट में बैठक की।
कल तालाब चैराहा पर जाम लगाने के दौरान एडीएम द्वारा महिलाओं से अपशब्द बोलने व डण्डा उठाने का मामला शांत भी नहीं हुआ था और अब आज तालाब चैराहा पर जाम के दौरान आशा व आंगनबाडी कार्यकत्रियों को समझाने आये सीडीओ के गाडी चालक द्वारा आशा कार्यकत्रियों के साथ अपशब्द बोलकर हंगामा करा दिया। आशा कार्यकत्रियों ने जहां सीडीओ की गाडी का घेराव कर लिया वहीं चालक को जमकर खरी खोटी सुनायी तथा यही नहीं महिलाओं ने सीडीओ की गाडी को हाथों से जमकर पीटा भी तथा मौके पर कोतवाली पुलिस के कांस्टेबिल रामवीर सिंह ने महिलाओं को काफी समझाया और जैसे-तैसे गाडी को निकलवाया।