Friday, September 21, 2018
Breaking News
Home » मुख्य समाचार » श्री गौशाला गौ-सेवा धाम का शिलान्यास सम्पन्न

श्री गौशाला गौ-सेवा धाम का शिलान्यास सम्पन्न

फिरोजाबादः एस. के. चित्तौड़ी। हिन्दू धर्म में गौ-सेवा को देव सेवा का रूप मानकर सर्वोपरि पूर्ण कार्य माना गया है। इसी भावना के साथ शनिवार को सोफीपुर यमुना घाट पर श्री गौशाला के शिलान्यास कार्यक्रम में गौ-सेवकों द्वारा तन मन धन से सहयोग का आश्वासन दिया गया। हवन गौ-पूजन और शिला पट्टिका के अनावरण के साथ कार्यक्रम सम्पन्न हुआ।
श्री गौशाला फिरोजाबाद के द्वारा पुरूषोत्तम मास के पुण्य अवसर पर यमुना घाट सोफीपुर पर सदर गौशाला की भूमि पर एक नई श्री गौशाला सेवा धाम का शिलान्यास मेयर नूतन राठौर आदि अतिथियों द्वारा किया गया। इस अवसर पर मेयर नूतन राठौर ने कहा कि हिन्दू धर्म में गौ-सेवा को सर्वोपरि मानकर माता के रूप में पूज्य माना जाता है। सनातन संस्कृति में गाय देवतुल्य है। हम सभी को गायों को श्रृद्वा भावना से पूजना चाहिये। गायों की सेवा के लिये नगर निगम द्वारा पूरा सहयोग दिये जाने का भी आश्वासन मेयर द्वारा दिया गया।
गौ-सम्वर्धन प्रान्त प्रमख रामाकान्त उपाध्याय ने गौ-सेवा पर प्रकाश डालते हुये कहा कि गौ-सेवा महान पुण्य का कार्य है। गौ में सभी देवताओं का वास है साथ ही गौवर और गौ मूत्र की उपयोगिता पर भी उनके द्वारा प्रकाश डाला गया। एसडीएम सदर चन्द्रभान सिंह ने भी नई गौशाला गौ-सेवा धाम के शिलान्यास की सराहना करते हुये कहा कि फिरोजाबाद में एक बडी गौ-शाला की आवश्यकता है जो भविष्य मेें इस प्रयास से पूरी हो सकेगी। उन्होंने जिलाधिकारी की ओर से भी इस पुण्य कार्य के लिये श्री-गौशाला परिवार को बधाई दी और जिला प्रशासन के पूरे सहयोग का आश्वासन दिया। मुख्य पशु चिकित्साधिकारी डा0 प्रभंजन शुक्ला ने अपने उद्बोधन में स्पष्ट किया कि श्री गौशाला समित द्वारा जो यमुना घाट पर श्री गौशाला की नई शाखा का शिलान्यास सम्पन्न हुआ है वह गौशाला की ही भूमि है। राजस्व अभिलेखों की सत्यता प्रमाणित करने के बाद ही किसी भी गौशाला का पंजीकरण किया जाता है। किसी भी प्रकार से भूमि के सम्बंध में गुमराह होने की आवश्यकता नही है। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि शासन स्तर पर विभाग द्वारा इस गौशाला को आधुनिक बनाने के लिये पूरा सहयोग दिया जायेगा। सीओ संजय वर्मा ने कहा कि गौ-सेवा से बढकर कोई भी कार्य पुनीत नही होता। निर्जीव को भोजन दान महान कार्य है। उन्होेंने बरिष्ठ पुलिस अधीक्षक की ओर से भी गौ-सेवा के इस पुनीत कार्य के लिये समिति की सराहना की और सभी लोगों से कहा कि वह इस धर्म कार्य मेें अपना सहयोग प्रदान करें। प्रबंधक राजनरायन गुप्ता ने कहा कि नई गौशाला की आवश्यकता को देखते हुये श्री गौशाला द्वारा अपना नया उपक्रम यमुना घाट सोफीपुर पर गौ-सेवा धाम के नाम से शुरू किया जा रहा है। यहां जन सहयोग से आधुनिक गौशाला का निर्माण कराया जायेगा। जिसमें जैबिक खाद एवं गौमूत्र शोधन का भी भविष्य में प्रोजेक्ट लगाया जायेगा साथ ही इस क्षेत्र के विकास के इसे पर्यटक स्थल के रूप में विकसित करने की भी योजना है। एमएलसी डा. दिलीप यादव ने भी गौ-सेवा कार्य के लिये गौशाला समिति की सराहना करते हुये हर स्तर पर सहयोग देने का आश्वासन दिया। मुख्य व्यवस्थापक हनुमान प्रसाद गर्ग ने गौशाला की व्यवस्थाओं पर प्रकाश डालते हुये कहा कि गौ-सेवा करना हम सभी का धर्म है। इस पुण्य कार्य में सभी को आगे आना चाहिये। सदर गौशाला में जगह की कमी के कारण गायों को उचित वातावरण नही मिल पा रहा है। हमारा प्रयास है कि नई गौशाला की स्थापना से गायों को नया जीवन मिलेगा। कार्यक्रम में उपस्थित अनेक दानदाताओं द्वारा भी सहयोग की घोषणा की गई। कार्यक्रम की अध्यक्षता विश्नू बंसल एडवोकेट द्वारा व संचालन सचिव द्विजेन्द्र मोहन शर्मा ने किया। कार्यक्रम में मुख्य रूप से राजकुमार मित्तल, संजय मित्तल, प्रमोद गर्ग, मंगल सिंह राठौर, प्रदीप मित्तल, श्रीमती नीता पाण्डेय, राकेश तिवारी, चन्द्रप्रकाश शर्मा, सतेन्द्र जैन सौली, सुनील शर्मा, रामनरेश कटारा, अश्वनी गुप्ता, उमाकान्त पचैरी, अरूण पालीवाल, देवव्रत पाण्डेय, राकेश शर्मा, हरीशंकर तिवारी, पुरूषोत्तम शर्मा, सिंघराज यादव, हरिओउम वर्मा, प्रमोद राजौरिया, रवि शर्मा, राजीव शर्मा, उमा शंकर मिश्रा, रामनरेश कटारा, अजय अग्रवाल, झब्बू लाल अग्रवाल, भोलानाथ चतुर्वेदी, सुनील बशिष्ठ, गोपाल शर्मा, प्रेमवीर सविता, रामबाबू बघेल, अखिलेश शर्मा, जेपी यादव, कन्हैया तिवारी आदि मौजूद रहे।