Home » मुख्य समाचार » नरेश वाष्र्णेय बने भाविप के अध्यक्ष

नरेश वाष्र्णेय बने भाविप के अध्यक्ष

बारह वर्ष वाद पुन; किया गया परिषद का गठन
28 अगस्त 2005 को हुआ था सासनी में पहला अधिष्ठापन समारोह
सासनी, हाथरसः जन सामना ब्यूरो। सासनी-नानऊ मार्ग स्थित यूनियन सीनियर सेकेण्ड्री पब्लिक स्कूल कैंपस में संपर्क सहयोग संस्कार सेवा समर्पण की भावना से जनसेवा में जुटी रहने वाली सामाजिक संस्था भारत विकास परिषद बारह वर्ष बाद पुनः शाखाा सासनी ब्रजप्रांत के पदाधिकारियों का गठन किया गया। जिसमें नरेश वाष्र्णेय को सर्वसम्मति से संस्था का अध्यक्ष चुना गया। इसके साथ ही सचिव, कोषाध्यक्ष आदि का चुनाव कर उन्हें मेपपिन लगाकर सम्मानित किया गया। आयोजित कार्रक्रम का शुभारंभ मुख्यातिथि के रूप में मौजूद डा. केडी गुप्ता, तरूण शर्मा, राजीव अग्रवाल, श्रीमी दिव्या लहरी, बसंत कुमार एडवोकेट डा0 जेके जुडेजा आदि पदाधिकारियो ने संयुक्त रूप से स्वामी विवेकानंद के छबिचित्र के सामने दीप प्रज्वलित एवं माल्यार्पण कर किया। कार्रक्रम के दौरान अंजय जैन को सलाहाकार नियुक्त करते हुए कृष्णगोपाल शर्मा के संरक्षण में भारत विकास परिषद ब्रज प्रांत की पुनः नींव रखी गई। जिसमें नरेश वाष्र्णेय को परिषद का अध्यक्ष, डा0 विकास सिंह सेंगर को उपाध्यक्ष, देवकी नंदन को कोषाध्यक्ष, मुकेश शर्मा को उपकोषाध्यक्ष, शैलेश कुमार वाष्र्णेय को सचिव, राजीव गुप्ता को उपसचिव तथा मुकेश वाष्र्णेय केा अंकेक्षक, नियुक्त किया गया। संस्था का संचालक मुकेश शर्मा तथा निर्देश चंद्र वाष्र्णेय को मीडिया प्रभार का दायित्व सौंपा गया। वहीं जन संपर्क प्रमुख के रूप में पवन कुमार वाष्र्णेय (भोलू बिजली वालों) को चुना गया। कार्यक्रम में मुख्यातिथि ने कहा कि भारत विकास परिषद का मुख्य उद्देश्य संपर्क सहयोग संस्कार सेवा और समर्पण की भावना से जनसेवा करने का संकल्प लेना और जन सेवा में जुटे रहना है। कार्यक्रम का संचालक कर रहे मुकेश शर्मा ने संस्था द्वारा की गई सेवाओं पर प्रकाश डाला। सभी अतिथियों को पदाधिकारियों द्वारा प्रतीक चिन्ह भेंटकर स्वागत किया गया। कार्यक्रम का समापन बंदेमातरम् राष्ट्रगान के साथ किया गया। इस दौरान गुरूदयाल शर्मा, विपिन कुमार विकास शर्मा, आशीष वाष्र्णेय, मनीष कुमार, श्याम शरण सर्राफ, सुजान, मुकेश अग्रवाल, भगवती प्रसाद कुशवाहा, पवनख् दीपक वाष्र्णेय, सतीश गुप्ता, राजेन्द्र वाष्र्णेय, लाला बाबू वाष्र्णेय, मोहन वाष्र्णेय, छेदी लाल शर्मा, सुरेश चंद्र, राजेन्द्र कुमार, श्रीमती ममता शर्मा, भुवनेश वाष्र्णेय, मनीष सिंह आदि मौजूद थे।